तेजस्वी ने छठ पर किया ऐसा ट्वीट, यूजर ने पूछा-किसकी बात कर रहे, छठ या पिता की?

Smart News Team, Last updated: Thu, 11th Nov 2021, 11:29 AM IST
  • लालू प्रसाद के पुत्र व बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने अपने नए अंदाज में आस्‍था के महापर्व छठ पर लोगों को शुभकामनाएं दी.
बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने भी अपने नए अंदाज में लोगों को शुभकामनाएं दीं. (Photo by Santosh Kumar /Hindustan Times)

पटना. आठ नवंबर से शुरू हुआ लोक आस्‍था के महापर्व छठ की चहुंओर धूम है. इस अवसर पर पीएम नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी समेत इन हस्तियों ने बधाई दी. इसी कड़ी में लालू प्रसाद के पुत्र व बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने भी अपने नए अंदाज में लोगों को शुभकामनाएं देते हुए लिखा कि 'आज अस्ताचलगामी सूर्य को प्रथम अर्घ्य दिया जाएगा. डूबते सूर्य की पूजा करने वाला छठ विश्व का एकमात्र त्योहार है. एक प्राणी की शक्ति भले क्षीण हो जाए पर उसके ऋण, जीवनकाल में उसके द्वारा दिए गए योगदान को भुलाया नहीं जाना चाहिए.'

तेजस्वी यादव की इस ट्वीट के बाद लोगों के कमेंट आने लगे. कुछ लोगों ने बधाई दी तो कुछ लोग उन्हों ट्रोल करने से पीछे नहीं हटे. वहीं एक ट्वीटर यूजर ने लिखा कि- 'किसकी बात कर रहे हो.. तेज बाबू छठ की या पिता जी की?

छठ पूजा के दौरान समस्तीपुर में गंगा घाट पर अचानक हुआ कटाव, कई लोग डूबे

वहीं जदयू के प्रवक्ता नीरज कुमार ने तेजस्वी की ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया दे डाली. उन्होंने कहा कि छठ जैसे त्योहार के प्रति लोगों की आस्था ही इसे महापर्व बनाती है. नेता प्रतिपक्ष को पूर्वांचल का अस्ताचल सूर्य या उगता सूर्य तो दिखता नहीं. वे तो प्रवासी बिहारी हैं. छठ में भी बिहार में नहीं दिखते हैं. कहा कि लालू प्रसाद तो काफी दिनों से 28 तरह की बीमारियों से ग्रस्त हैं. 

कोर्ट में भी यह बताया गया है. नीरज कुमार ने कहा कि ट्विटर पर छठ की आस्था व्यक्त करने की बजाय क्षेत्र में जाकर आस्था व्यक्त करनी चाहिए थी. जनता उनको खोजती रहती है और वे प्रवासी रहते हैं. गौरतलब है कि लालू प्रसाद यादव किडनी और हार्ट की गंभीर बीमारियों के बावजूद चुनाव प्रचार में उतरे हैं. छह साल बाद वे मंच पर देखे गए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें