केंन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान को आज जनार्दन घाट पर दी जाएगी अंतिम विदाई

Smart News Team, Last updated: 10/10/2020 08:04 AM IST
  • दिवंगत केंन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान आज जनार्दन घाट पर  पंच तत्वों में लीन होंगे. उनको मुखाग्नि पुत्र चिराग पासवान देंगे. स्व. पासवान की शवयात्रा कृष्णा पुरी आवास से दिन के साढ़े 11 बजे निकलेगी जबकि अंत्येष्टि दोपहर डेढ़ बजे होगी.
दिवंगत केंन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान को श्रद्धांजलि देते बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

पटना: दिवंगत केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का शनिवार को दीघा के जनार्दन घाट पर अंतिम किया जाएगा. बता दें कि स्व. पासवान को मुखाग्नि के पुत्र और लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान देंगे. शवयात्रा उनके कृष्णा पुरी आवास से दिन के साढ़े 11 बजे जनार्दन घाट के लिए निकलेगी. जबकि उनकी अंत्येष्टि दोपहर डेढ़ बजे होगी. उनका अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा.

वहीं, शुक्रवार को अपने नेता रामविलास पासवान का अंतिम दर्शन के लिए लोजपा प्रदेश कार्यालय में उनके समर्थकों और चाहने वालों हुजूम उमड़ पड़ा. विभिन्न जिलों से कार्यकर्ता सुबह से ही श्री पासवान के दर्शन के लिए पटना पहुंच गए थे. रात 10.20 बजे पार्थिक शरीर विधानसभा परिसर से पार्टी कार्यालय लाया गया. विधानसभा से कार्यालय तक कार्यकर्ताओं का हुजूम ‘गूंजे धरती-आसमान, रामविलास पासवान’ का गगनभेदी घोष करता रहा. पार्थिव शरीर जिस वाहन पर लाया गया, उस पर उनके पुत्र चिराग पासवान और भतीजे सांसद प्रिंस राज भी बैठे थे. ये रामविलास पासवान का करिश्माई व्यक्तित्व ही था कि आधी रात के बाद तक उनके अंतिम दर्शन के लिए नेताओं और कार्यकर्ताओं का कार्यालय में तांता लगा रहा. कार्यालय में प्रार्थना, भजन, कबीर के दोहे आदि की प्रस्तुति देर रात तक चलती रही.

रामविलास पासवान: पार्थिव शरीर का दर्शन करने से बेटी, दामाद और पप्पू यादव को रोका

पार्टी कार्यालय में अपने पिता को श्रद्धांजलि देते समय लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान फूट-फूट कर रो पड़े. ये देख वहां मौजूद लोग भी रो पड़े. कार्यालय परिसर का माहौल गमगीन बना रहा. बता दें कि कार्यालय में भीड़ इतनी थी कि तिल रखने की भी जगह नहीं बची थी. पार्टी कार्यालय पहुंच कर श्राद्धांजलि देने वालों में बिहार भाजपा प्रभारी भूपेंद्र यादव, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जयसवाल, पूर्व केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह, जाप अध्यक्ष पप्पू यादव, भाकपा माले के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य, वीआईपी प्रमुख मुकेश सहनी, पूर्व सांसद सूरजभान सिंह, पुतुल सिंह आदि प्रमुख थे. इसके साथ ही रामविलास पासवान के छोटे भाई और हाजीपुर सांसद पशुपति कुमार पारस ने मांग की है कि स्व. पासवान को भारत रत्न से सम्मानित किया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें