पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की मौत पर तेजस्वी ने जताया दुख, सरकार पर लगाया ये आरोप...

Smart News Team, Last updated: 03/05/2021 08:26 PM IST
  • नेता प्रतिपक्ष ने अपने पोस्ट में लिखा कि "हम ईश्वर से मरहूम शहाबुद्दीन साहब की मग़फ़िरत की दुआ करते हैं और प्रार्थना करते हैं कि उन्हें जन्नत में आला मक़ाम मिले. उनका निधन पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है. राजद उनके परिवार वालों के साथ हर मोड़ पर खड़ी रही है और आगे भी रहेगी."
नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव बोले- शहाबुद्दीन का निधन पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है.

पटना- सीवान के पूर्व बाहुबली सांसद शहाबुद्दीन की मौत पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने दुख जताया है. नेता प्रतिपक्ष ने अपने पोस्ट में लिखा कि "हम ईश्वर से मरहूम शहाबुद्दीन साहब की मग़फ़िरत की दुआ करते हैं और प्रार्थना करते हैं कि उन्हें जन्नत में आला मक़ाम मिले. उनका निधन पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति है. राजद उनके परिवार वालों के साथ हर मोड़ पर खड़ी रही है और आगे भी रहेगी."

उन्होंने अपने पोस्ट में आगे लिखा कि "इलाज़ के सारे इंतज़ामात से लेकर मय्यत को घरवालों की मर्ज़ी के मुताबिक़ उनके आबाई वतन सिवान में सुपुर्द-ए-ख़ाक करने के लिए मैंने और राष्ट्रीय अध्यक्ष ने स्वयं तमाम कोशिशें की, परिजनों के सम्पर्क में रहें लेकिन सरकार ने हठधर्मिता अपनाते हुए टाल-मटोल कर आख़िरकार इजाज़त नहीं दिया."

बिहार में कोरोना का कहर जारी, सोमवार को कोरोना संक्रमण के 11407 नए मामले

नेता प्रतिपक्ष ने अपने पोस्ट में आगे लिखा कि "अंत तक शासन-प्रशासन ने कोविड प्रोटोकॉल का हवाला देकर अड़ियल रुख़ बनाए रखा. पोस्ट्मॉर्टम के बाद पुलिस प्रशासन उन्हें कहीं और दफ़नाना चाह रहा था लेकिन काफ़ी कोशिशों के बाद कमिशनर से बात कर परिजनों द्वारा दिए गए दो वैकल्पिक स्थानों में से एक ITO क़ब्रिस्तान की अनुमति दिलाई गयी. ईश्वर मरहूम को जन्नत में आला मक़ाम दें और मग़फ़िरत फ़रमाये."

शहाबुद्दीन का पोस्टमार्टम हुआ पूरा, सीवान नहीं दिल्ली में दफन होंगे पूर्व सांसद

पटना में कर्फ्यू में पुलिस पर आरोप, ठेकेदार से लिए 5000 रु और रसीद दी 2000 की

रेमडेसिविर की कालाबाजारी रोकने को प्रशासन आवंटन की सूची करेगा सार्वजनिक

पेट्रोल डीजल 3 मई का रेट: पटना, मुजफ्फरपुर, भागलपुर, पूर्णिया, गया में नहीं बदले तेल की कीमत

बिहार, झारखंड और MP के 10 बड़े शहरों में 3 मई का रमजान रोजा इफ्तार टाइम

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें