LIC Policy: एलआईसी की लैप्स पॉलिसी को फिर से कैसे करें Revive? यहां जानें तरीका

Naveen Kumar, Last updated: Fri, 25th Feb 2022, 2:52 PM IST
  • एलआईसी ने पॉलिसीधारकों को लैप्स्ड बीमा पॉलिसियों को रीवाइव कराने के लिए एक अभियान की शुरुआत की है. इस अभियान के तहत जिनकी एलआईसी की पॉलिसी पिछले कुछ सालों में लैप्स चल रही है, वो फिर से रीवाइव करवा सकते हैं.
फाइल फोटो

अपने परिवार के भविष्य की सुरक्षा को लेकर लोग जीवन बीमा पॉलिसी करवाते हैं. पॉलिसी लेने के बाद पॉलिसीधारकों को हर वर्ष एक प्रीमियम राशि अदा करनी पड़ती है. कई बार पैसे की कमी या कई अन्य कारण से प्रीमियम राशि जमा नहीं करवा पाते, जिसके कारण पॉलिसी लैप्स हो जाती है, जिसके बाद पॉलिसीधारक को कोई लाभी नहीं मिलता. अगर आपकी भी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की पॉलिसी पिछले कुछ सालों में लैप्स चल रही है, तो आप इसे वापस शुरू करवा सकते हैं. 

एलआईसी ने पॉलिसीधारकों को लैप्स्ड बीमा पॉलिसियों को रीवाइव कराने के लिए एक अभियान की शुरुआत की है. एलआईसी द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार, ऐसी पॉलिसियां जो प्रीमियम-भुगतान अवधि के दौरान समाप्त हो गई हैं, लेकिन अभी तक पॉलिसी अवधि पूरी नहीं हुई हैं, इस अभियान के तहत उन्हें फिर से रीवाइव का मौका दिया गया है. ऐसे पॉलिसीधारक 7 फरवरी से 25 मार्च 2022 तक चलने वाले इस अभियान के माध्यम से अपनी पॉलिसी को रीवाइव करा सकेंगे.

PMJJBY बीमाधारक होंगे LIC IPO में छूट के हकदार, एलआईसी के अध्यक्ष ने दी जानकारी

सेबी इन्‍वेस्‍टमेंट एडवाइर और एक्सपर्ट जितेंद्र सोलंकी के अनुसार, अगर पॉलिसी के प्रीमियम का भुगतान ग्रेस पीरियड में नहीं किया जाता तो पॉलिसी समाप्त मानी जाती है. हालांकि, अगर प्रीमियम की राशि भुगतान नहीं करने के बाद छह महीने के भीतर आप अपनी पॉलिसी को रीवाइव कराते हो, तो आपसे कोई व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगी जाएगी. वहीं, इसके बाद भुगतान के सा​थ ब्याज भी चुकाना पड़ता है. उन्होंने बताया कि यदि किसी बीमा पॉलिसी को सामान्य परिस्थितियों में या गैर-चिकित्सीय आधार पर रीवाइव नहीं किया जा सकता है, तो इसे चिकित्सा शर्तों के तहत रीवाइव किया जा सकता है. अपनी एलआईसी पॉलिसी को रिवाइव कराने के लिए आपको नजदीकी एलआईसी कार्यालय में विजिट करना होगा. वहां जरूरी दस्तावेजों के साथ मांगी गई सभी जानकारी देकर अपनी पॉलिसी को रिवाइव करवा सकते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें