शराब पीने के आरोपी की जेल में मौत, परिजनों ने पुलिस पर मारपीट का लगाया आरोप

Shubham Bajpai, Last updated: Fri, 12th Nov 2021, 6:38 PM IST
  • बिहार के छपरा में जेल में बंद एक व्यक्ति की मौत के बाद परिजनों ने हंगामा किया और हाईवे जाम कर दिया. परिजनों का आरोप है कि शराब पीने के आरोप में पुलिस मृतक को ले गई और उसकी जमकर पिटाई की. पिटाई से घायल होने के बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया जहां उसकी मौत हो गई. वहीं, पुलिस ने आरोपों को मनगढ़त बताया.
शराब पीने के आरोपी की जेल में मौत, परिजनों ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगा जमा किया हाईवे (फोटो सभार लाइव हिंदुस्तान)

पटना. बिहार के छपरा में पुलिस ने शराब पीने और बेचने के आरोप में एक युवक को गिरफ्तार किया. जिसकी तबीयत जेल में खराब होने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उसकी मौत हो गई. शोभेपुर गांव के युवक बृजेश्वर नट की मौत के बाद उसके परिजनों ने सदर अस्पताल के बाहर जमकर हंगामा किया और छपरा-मुजफ्फरपुर हाईवे जाम कर पुलिस पर युवक के साथ मारपीट करने का आरोप लगाया. कई घटों चले इस हंगामे को जनप्रतिनिधियों ने काफी मशक्कत के बाद शांत कराया.

बृजेश्वर समेत 8 लोगों को ले गई थी पुलिस

जानकारी अनुसार, 7 नवंबर को भेल्दी थाने की पुलिस ने पैगा और शोभेपुर में शराब बेचने और पीने के आरोप में छापेमारी की थी. जिसमें सब इंस्पेक्टर अशोक कुमार ने बृजेश्वर नट समेत 8 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. जिसमें जेल में 5 कैदियों की हालत बिगड़ गई थी, जिसके बाद अस्पताल में भर्ती 5 कैदियों में से एक की मौत हो गई.

बिहार के संविदाकर्मियों का हेल्थ बीमा कराएगी नीतीश सरकार, मिलेगा लाखों का फायदा

पुलिस की मार से फूट गया सिर, जिससे हुई मौत

मृतक के परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस ने बृजेश्वर की बेरहमी से पिटाई की, जिससे उसकी मौत हो गई. परिजनों ने बताया कि मृतक शौच करके आ रहा था, इस दौरान पुलिस ने उसे पकड़ उसकी पिटाई शुरू की. रोकने गई पत्नी को भी पुलिस पीटने लगी. इस दौरान पिटाई से मृतक का सिर फट गया. जिससे इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

पुलिस का कहना पहले से मृतक था बीमार

इस मामले में भेल्दी थाना प्रभारी अरुण कुमार सिंह ने परिजनों के आरोपों को मनगंढत व बेबुनियाद बताते हुए कहा कि मृतक पहले से बीमार था और उसकी गिरफ्तारी शराब बेचने व पीने के आरोप में हुई थी.

गलत उम्र बताकर ले रहे हैं पेंशन तो नीतीश सरकार सूद समेत करेगी वसूली, दर्ज होगा FIR

4 घंटे जाम रहा हाईवे

मृतक के परिजनों ने करीब 4 घंटे तक हाईवे को जाम रखा. इस दौरान परिजनों ने वहां से गुजर रही आईटीबीपी की गाड़ी को भी रोक लिया. जिसके बाद कई जनप्रतिनिधि मौके पर पहुंचे. परिजनों ने मृतक के परिवार को सरकारी नौकरी और दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की मांग की. जिसके बाद काफी समझने के बाद परिजनों ने जाम खोला. जिसके बाद मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें