पटना में शराब की होम डिलीवरी पर लगेगी लगाम, पुलिस ने की खास तैयारियां, जानें

Smart News Team, Last updated: Wed, 17th Mar 2021, 3:23 PM IST
पटना में शराब की होम डिलीवरी पर लगाम लगाने के लिए पुलिस ने खास तैयारियां की हैं. पुलिस ने ऑपरेशन होम डिलीवरी की शुरुआत के तहत बिहार पुलिस मुख्यालय से भी एमपी की पांच कंपनियां मांगी हैं जिसमें 300 जवान शामिल होंगे. पुलिस इन जवानों के साथ जिले के शहरी और ग्रामीण इलाकों की तलाशी लेगी.
पटना में शराब की होम डिलीवरी पर लगाम लगाने के लिए पुलिस में ऑपरेशन होम डिलीवरी की है 

पटना. राजधानी में शराब की होम डिलीवरी के खिलाफ पुलिस ने ऑपरेशन होम डिलीवरी की शुरुआत कर दी है. इसके तहत बिहार पुलिस मुख्यालय से BMP की 5 कम्पनियां मांगी गई है जिसमें कुल 300 जवान शामिल होंगे. इन जवानों के जरिये पटना पुलिस शहरी और ग्रामीण इलाकों में शराब के खिलाफ ऑपरेशन चलाएगी. इसके साथ ही सभी मुसहरी इलाकों की भी तलाशी ली जाएगी.गौरतलब है कि इन इलाकों में देशी शराब की खेप बड़े पैमाने पर उपलब्ध होती है.

आपको बता दें कि राजधानी पटना में शराब की होम डिलीवरी धड़ल्ले से की जा रही है. होम डिलीवरी के जरिए लोग बेखौफ होकर अपने घरों में बैठकर शराब पी रहे हैं। हाल के दिनों में इस तरह के कई मामलों का खुलासा हुआ है. चूंकि अब होली का त्यौहार नजदीक है. इसलिए देशी-विदेशी ब्रांड के शराब की डिमांड भी काफी तेज़ हो गई है. हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, यूपी, झारखंड और वेस्ट बंगाल से शराब की खेप बड़े पैमाने पर आने की तैयारी में है, जबकि बहुत सारी खेप बिहार में पहुंच चुकी है. दूसरे राज्यों से आए खेप को बरामद करने और होम डिलीवरी पर पूरी तरह से शिकंजा कसने के लिए पटना पुलिस ने अपनी तैयारी की है.

नीतीश सरकार के निर्देश के बावजूद दागी पुलिस अफसर बनीं थानेदार, जानें मामला

ज्ञात हो कि शराब माफियाओं के साथ सांठगांठ और अवैध वसूली व मनमानी का आरोप पटना पुलिस के क्विक मोबाइल के जवानों पर लगता रहा है. ऐसी कईं शिकायतें लगातार सीनियर अधिकारियों तक पहुंच रही है. कुछ दिनों पहले ही कदमकुआं थाना में तैनात क्विक मोबाइल के एक जवान के शराब माफियाओं से मिला होने का खुलासा हुआ था. इसके बाद उसे सस्पेंड कर दिया गया. इन बातों को ध्यान में रखते हुए SSP उपेंद्र कुमार शर्मा ने शराब माफियाओं पर शिकंजा कसने के लिए सख्त कदत उठाया है. क्विक मोबाइल के 103 जवानों को पुलिस लाइन भेज दिया गया है. इनकी जगहों पर नए जवानों को क्विक मोबाइल की जिम्मेदारी दी गई है. SSP ने बताया कि अब उन जवानों को जिम्मा दिया गया है जो कभी क्विक मोबाइल की टीम में नहीं थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें