रामविलास पासवान की पुण्यतिथि पर चिराग की आशीर्वाद यात्रा 5 जुलाई से, हाजीपुर से शुरू पटना में खत्म

Smart News Team, Last updated: Mon, 21st Jun 2021, 6:26 AM IST
  • लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने रविवार को पार्टी की कार्यकारिणी बैठक के बाद आशीर्वाद यात्रा शुरू करने की घोषणा की. यह आशीर्वाद यात्रा स्व राम विलास पासवान के पुण्यतिथि 5 जुलाई से हाजीपुर से शुरू होगी. जो पटना में पार्टी की नेशनल कॉउंसिल की बैठक के साथ खत्म होगी.
दिल्ली में चिराग ने दिखाया दम, बिहार में आशीर्वाद यात्रा 5 जुलाई से हाजीपुर से शुरू पटना खत्म

पटना. लोक जनशक्ति पार्टी की कमान को लेकर चल रही राजनीतिक जंग के बीच चिराग पासवान ने रविवार को दिल्ली में अपने गुट के एलजेपी नेताओं के साथ राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक की. मीटिंग के बाद चिराग ने ऐलान किया कि वे अपने पिता रामविलास पासवान की पुण्यतिथि और अपने जन्मदिन 5 जुलाई से पूरे बिहार में आशीर्वाद यात्रा शुरू करेंगे. यात्रा को रामविलास पासवान की कर्मभूमि हाजीपुर से शुरू की जाएगी जो पूरे बिहार में घूमने के बाद पटना में चिराग गुट की नेशनल कॉउंसिल की बैठक के साथ खत्म होगी.

वहीं चिराग पासवान ने बैठक के बाद कहा कि उन्होंने एक प्रस्ताव पारित कर रामविलास पासवान के द्वारा 50 वर्षों के राष्ट्रहित में किए गए कार्यों को देखते हुए उन्हें भारत रत्न देने की मांग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की है. चिराग ने आगे कहा कि पिता के निधन के दिन नहीं बल्कि मैं उस दिन अनाथ हो गया जिस दिन गोद में खेलाने वाले मेरे चाचा ने मेरे हाथ खींच लिया. उन्होंने कहा कि अब मां का आशीर्वाद लेकर एक नए जंग की शुरुआत करेंगे.

सोमवार को PM मोदी से मुलाकात करेंगे CM नीतीश, मंत्रिमंडल पर हो सकती है चर्चा

चिराग ने आगे कहा कि जंग के पहले दौर में जनता से आशीर्वाद लेने बिहार जाएंगे और 5 जुलाई से आशीर्वाद यात्रा की शुरूआत करेंगे. वहीं चिराग ने दावा किया किया कि उनकी कार्यकारिणी बैठक में 90 प्रतिशत लोजपा के सदस्य मौजूद थे जिसमें दिल्ली और जम्मू कश्मीर राज्य को छोड़कर बाकी सभी प्रदेश अध्यक्ष बैठक में शामिल हुए थे.

चिराग पासवान ने आगे बताया कि एक प्रकोष्ठ के अध्यक्ष को छोड़कर सभी अध्यक्ष बैठक में शामिल हुए थे. जिसका उनके पास वीडियो भी है. चाचा चांहे तो सार्वजनिक कर दूंगा. इसके साथ ही उन्होंने पशुपति पारस पर निशाना साधते हुए कहा कि चाचा को बताना चाहिए कि उनकी बैठक में कौन कौन उपस्थित थे. कोरम पूरा करने के लिए भी 30 कार्यसमिति सदस्यों की जरूरत होती है. उनकी बैठक में केवल 9 लोग ही उपस्थित थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें