LJP कार्यकारी अध्यक्ष सूरजभान बोले- चिराग को सद्बुद्धि आए और वो मीटिंग में आएं

Smart News Team, Last updated: Wed, 16th Jun 2021, 11:07 PM IST
लोक जनशक्ति पार्टी में पशुपति पारस कैंप द्वारा कार्यकारी अध्यक्ष चुने गए पूर्व सांसद सूरजभान सिंह ने कहा है कि गुरुवार को पार्टी अध्यक्ष का चुनाव होगा और उनकी कामना है कि चिराग पासवान को सद्बुद्धि आए और वो बैठक में शामिल होने पटना आएं.
LJP कार्यकारी अध्यक्ष सूरजभान सिंह बोले- चिराग पासवान को सद्बुध्दि आए और वो मीटिंग में पटना आएं (फाइल फोटो)

पटना. लोक जनशक्ति पार्टी में पशुपति पारस कैंप के कार्यकारी अध्यक्ष सूरजभान सिंह ने कहा है कि उनकी तो यही कामना है कि चिराग पासवान को सद्बुद्धि आए और वो गुरुवार को पटना में आयोजित पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की में शामिल होने आएं. पशुपति पारस समेत पारस समर्थक तमाम सांसद और नेता दिल्ली से पटना पहुंच चुके हैं और गुरुवार को पारस को पार्टी का अध्यक्ष चुना जाना तय लग रहा है. सूरजभान सिंह ने कहा है कि चिराग ने बहुत दिन पार्टी चलाया, अब चाचा को मौका मिलना चाहिए. उन्होंने कहा कि उन्होंने  इस बात को तूल मत दीजिए, दोनों साथ आएंगे और एक ही पार्टी में रहेंगे.

सूरजभान सिंह ने कहा कि उनकी कोशिश होगी कि पार्टी और परिवार दोनों बचा रहे. उन्होंने कहा कि लोजपा कल भी चिराग की पार्टी थी और आज भी उनकी ही पार्टी है. सूरजभान सिंह के आवास पर गुरुवार सुबह 11 बजे पार्टी की मीटिंग बुलाई गई है जिसमें बकौल पारस वो अध्यक्ष चुने जाएंगे. पारस के नेतृत्व में चिराग का तख्तापलट करने वाले पांच सांसदों में सूरजभान सिंह के भाई चंदन सिंह भी शामिल हैं. सूरजभान सिंह रामविलास पासवान के करीबी रहे हैं और विधानसभा चुनाव में एनडीए से अलग होकर लड़ने के खिलाफ थे. लेकिन चिराग पासवान के नेतृत्व में पार्टी ने जेडीयू से लड़ने के लिए एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ा.

चिराग पासवान के NDA से लड़ने के कारण LJP खत्म होने के कगार पर है: पशुपति पारस

इस बीच चिराग पासवान ने कहा है कि वो पार्टी पर कब्जा के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ेंगे. लोकसभा स्पीकर से पारस को संसदीय दल का नेता बनाने के फैसले पर दोबारा विचार करने के लिए पत्र लिखते हुए चिराग ने कहा है कि पार्टी संविधान में संसदीय बोर्ड को ये अधिकार है इसलिए पारस का चुनाव गलत है. चिराग ने ये भी कहा है कि पार्टी संविधान के मुताबिक अध्यक्ष को हटाया नहीं जा सकता सिवाय इसके कि वो खुद इस्तीफा दे दे या उसका निधन हो जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें