मगध यूनिवर्सिटी के कुलपति की बढ़ेगी मुश्किल, एसवीयू ने भेजा हाजिर होने का नोटिस

Shubham Bajpai, Last updated: Fri, 24th Dec 2021, 10:14 AM IST
  • मगध यूनिवर्सिटी में अनियमितता के आरोप और पद का दुरुपयोग करने को लेकर कुलपति प्रो. राजेंद्र प्रसाद को नोटिस जारी किया है. नोटिस में 3 जनवरी को पटना के विशेष निगरानी इकाई (एसवीयू) कार्यालय में तलब किया है. इससे पहले विवि में कई अधिकारियों की गिरफ्तारी हो चुकी है.
मगध यूनिवर्सिटी के कुलपति की बढ़ेगी मुश्किल, एसवीयू ने भेजा हाजिर होने का नोटिस

पटना. मगध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राजेंद्र प्रसाद को विशेष निगरानी इकाई (एसवीयू) ने नोटिस भेजा है. नोटिस के अनुसार, कुलपति को 3 जनवरी को पटना स्थित कार्यालय में पूछताछ के लिए तलब किया गया है. कुलपति पर पद का दुरुपयोग कर 30 करोड़ से अधिक की रकम के हेरफेर का आरोप है.

विशेष निगरानी इकाई के एडीजी हसनैन खान की ओर से जारी नोटिस में कुलपति पक धारा 120 बी, 420 आइपीसी, पीसी एक्ट 1988 समेत कई धाराओं पर दर्ज मामले में पूछताछ को बुलाया गया.

राजेंद्र प्रसाद की स्मारकों की बदहाली पर HC सख्त, केंद्र व राज्य सरकार से मांगा जवाब

कुलपति कार्यालय और आवास पर छापेमारी में मिली 1 करोड़ से अधिक की संपत्ति

मगध विश्वविद्यालय के कुलपति के कार्यालय, आवास व गोरखपुर निवास पर टीम 17 नवंबर को छापेमारी कर चुकी है. जिसमें टीम को 95 लाख नकद, 5 लाख रुपये की विदेशी मुद्रा के साथ एक करोड़ से अधिक की चल अचल संपत्ति के कागजात बरामद हुए थे. जिसकी रिपोर्ट तैयार कर टीम ने बिहार सरकार व राजभवन को भेज दी.

अवकाश पर चले गए कुलपति

इस मामले में कुलपति का नाम आने के बाद वो अवकाश पर चले गए हैं. उनको जांच में पूछताछ के लिए तुरंत हाजिर होने का नोटिस यूनिवर्सिटी पहुंचा. तब जानकारी हुई कुलपति अवकाश पर गए हुए हैं. जांच टीम को उनके वर्तमान पते की कोई जानकारी नहीं है. टीम ने साथ में केस के अफसर और डीएसपी सुधीर को भी रिपोर्ट करने को कहा गया है.

बिहार सरकार में शामिल JDU, VIP के बाद मांझी की HAM भी UP चुनाव में BJP से लड़ेगी

इन लोगों की हो चुकी गिरफ्तारी

इससे पहले टीम ने यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार पुष्पेंद्र प्रसाद वर्मा, प्राक्टर प्रो. जयनंदन प्रसाद सिंह, लाइब्रेरियन प्रो. विनोद कुमार और कुलपति के आप्त सचिव सुबोध कुमार को 20 दिसंबर को पूछताछ के लिए बुलाया था. जहां पूछताछ के बाद निगरानाी कार्यालय में ही उनकी गिरफ्तारी कर ली गई थी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें