Mahashivratri Puja 2021: महाशिवरात्रि पर ऐसे करें भगवान शिव को प्रसन्न,पूजा विधि

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Mar 2021, 5:59 PM IST
  • Mahashivratri Puja 2021: महाशिवरात्रि भगवान शिव की पूजा-अर्चना के लिए हर साल मनाया जाने वाला पावन पर्व है. इस दिनों के लिए हिंदू धर्म में काफी मान्यता मानी जाती हैं. साथ ही इस बार महाशिवरात्रि बेहद ही खास मुहु्र्त और अद्भुत संयोग में आ रही हैं. यहां पढ़े कैसे आप इस दिन भगवान शिव को प्रसन्न कर सकते हैं. क्या है इस दिन का शुभ मुहुर्त, पूजा विधि और मंत्र.
Mahashivratri Date Puja Vidhi Shubh Muhurt Mantra

महा श‍िवरात्र‍ि भगवना शिव का एक बेहद ही खास और पावन पर्व है, जिसको बेहद ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता है. इन दिनों को लेकर हिंदू धर्म में काफी मान्यताएं हैं. वहीं अगर ह‍िंदू कैलेंडर को देखे तो साल के आख‍िरी महीने फाल्‍गुन में महा श‍िवरात्र‍ि का पर्व मनाया जाता है. इस खास द‍िन सुबह से ही श‍िव के तमाम मंद‍िरों और तीर्थों पर भारी संख्या में भीड़ जुटनी शुरू हो जाती है और पूरे द‍िन श्रद्धालु भोलेनाथ की पूजा-अर्चना कर उनको प्रसन्न करते हैं और उनके प्रति अपनी अपार आस्था को दिखाते हैं. साथ ही इस दिन को लेकर हिंदू शास्त्रों में बताया गया है कि इस दिन भगवान शिव और देवी शक्ति का मिलन हुआ था.

ये पावन त्यौहार हिंदू धर्म में बेहद महत्वपूर्ण त्यौहार माना जाता है. इसके साथ इस त्यौहार को लेकर कहा जाता है कि इस दिन भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह हुआ था. यही कारण है कि हिंदू धर्म में रात के विवाह मुहूर्त बेहद उत्तम माने जाते हैं. इस दिन भक्त जो मांगते उन्हें शिव जी जरुर देते हैं. इसके साथ ही इस बार बताया जा रहा है कि महाशिवरात्रि पर शनि राशि मकर में और शुक्र राशि मीन में हैं. दोनों ही अपने ही ग्रह में मौजूद हैं और उच्च अवस्था में है. ये दुर्लभ योग इस बार 101 साल बाद आया है. इस दिन जब भी आप भगवान श‍िव की पूजा करें तो, इसमें बेलपत्र, शहद, दूध, दही, शक्कर और गंगाजल आद‍ि जरूर शामिल करें. ऐसा करने से पूजा का शुभ फल दोगुना हो जाएगा.

वहीं अगर महा शिवरात्रि के शुभ मुहुर्त को लेकर बताया जा रहा है कि इस साल पूजा 4 प्रहरों में बांटी गई है. रात के पहले प्रहर की पूजा : शाम 06 बज कर 26 मिनट से लेकर रात 09 बज करे 33 मिनट तक. इसके अलावा रात के दूसरे प्रहर की पूजा : 21 फरवरी को 09 बज करे 33 मिनट से 22 फरवरी को रात 12 बज कर 40 मिनट तक. इसके बाद रात के तीसरे प्रहर की पूजा : 22 फरवरी को 12 बज कर 40 मिनट से तड़के 03 बज कर 48 मिनट तक और रात के चौथे प्रहर की पूजा : 22 फरवरी को तड़के 03 बज कर 48 मिनट से सुबह 06 बज कर 55 मिनट तक का है. साथ ही अगर आप भगवान शिव को अपनी पूजा से खुश करना चाहते हैं तो, ॐ नमः शिवाय करालं महाकाल कालं कृपालं ॐ नमः शिवाय और ॐ नमो भगवते रुद्राय का भी जाप कर सकते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें