कर्ज नहीं चुका पाया, बदमाशों ने पीट-पीटकर उतारा मौत के घाट, भांजे को बांधकर पीटा

Ruchi Sharma, Last updated: Tue, 28th Dec 2021, 2:20 PM IST
  • ब्याज समेत कर्ज झुकता नहीं कर पाने पर सूखदारों ने टैंपो चालक को पीट- पीट कर मार डाला. यही नहीं टैंपो चालक के भांजे को भी बंधक बनाकर जमकर पीटा. सूचना पाकर मौके पर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. वहीं घायल भांजे को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
कर्ज नहीं चुका पाया, बदमाशों ने पीट-पीटकर उतारा मौत के घाट, भांजे को बांधकर पीटा

पटना. बिहार की राजधानी पटना में एक दिल दहला देने वाली वारदात सामने आई है. जहां एक टैंपो चालक को सूदखोरों से कर्ज लेना महंगा पड़ गया. जिसके बदले में टैंपो चालक को अपनी जान गंवानी पड़ी. दरअसल ब्याज समेत कर्ज झुकता नहीं कर पाने पर सूखदारों ने टैंपो चालक को पीट- पीट कर मार डाला. यही नहीं टैंपो चालक के भांजे को भी बंधक बनाकर जमकर पीटा. सूचना पाकर मौके पर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. वहीं घायल भांजे को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जिसके बाद पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

मामला अगमकुआं थाना क्षेत्र का है, जहां कुम्हरार में ब्याज समेत एक लाख रुपये कर्ज चुकता नहीं करने पर टैंपो चालक अमित कुमार उर्फ गोलू की पीट पीट कर हत्या कर दी जबकि उसके भांजे श्रीकांत को भी बांधकर बेरहमी से पीटा. घटना के पीछे सूदखोरी का मामला जुड़ा होने की आशंका है.सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के.लिए भेजा. वहीं जख्मी भांजे को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

 

पत्नी किसी और को दे बैठी दिल, पति ने करवा दी दोनों की शादी, खुद बनाया वीडियो

 

आरोपी है फरार

घटना के बाद से ही हमलावर घर छोड़कर फरार हो गए हैं. हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए सिटी एसपी पूर्वी के नेतृत्व में पुलिस छापेमारी कर रही है. बताया गया है कि टैंपो चालक अमित ने एक साल पहले विपक्षी से कर्ज लिया था. कर्ज चुकता नहीं कर पाने पर उस पर पैसे लौटाने का दबाब दिया जा रहा था.

पुलिस जुटी जांच में

सोमवार की रात हमलवारों ने अमित और उसके भांजे को बंधक बना लिया. दोनों की बंद कमरे में पिटाई की गई, जिसमें अमित ने दम तोड़ दिया. सिटी एसपी पूर्वी जितेन्द्र कुमार का कहना है कि मामला सूदखोरी से जुड़ा है या नहीं इसकी भी जांच की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें