शराब माफिया के खिलाफ शिकायत करने पर पुलिस ने पीटा, JDU ऑफिस में आत्मदाह की कोशिश

Smart News Team, Last updated: Mon, 16th Aug 2021, 11:02 AM IST
  • एक युवक को शराब माफिया के खिलाफ शिकायत करना भारी पड़ गया. युवक ने आरोप लगाया कि जब वह शिकायत करने थाना पहुंचा को पुलिस ने उसे बुरी तरह से पीट दिया. इसके बाद युवक अपने परिवार के साथ रविवार को जेडीयू कार्यालय पहुंचा और शरीर पर पेट्रोल डालकर आत्मदाह करने की धमकी दी.
शराब माफिया के खिलाफ शिकायत करना युवक को पड़ा भारी. फोटो साभार-लाइव हिन्दुस्तान

पटना: बिहार की राजधानी पटना के दनियावां जिले का अमित नाम का एक युवक शराब माफिया के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने थाना पहुंचा. अमित का आरोप है कि पुलिस ने शिकायत लिखने के बजाय उसकी पिटाई कर दी. अमित लगातार ये आरोप लगा रहा कि शराब माफिया के खिलाफ शिकायत करने पर पुलिस द्वारा उसे पीटा जा रहा है, जिससे उसका जीना मुश्किल हो गया है. अमित कुमार इसके बाद रविवार को परिवार के साथ जेडीयू कार्यालय पहुंचा और अपने शरीर पर पेट्रोल डालकर आत्मदाह करने की धमकी दी.युवक के पहुंचने के बाद जेडीयू कार्यालय में अफरा-तफरी मच गई.

अमित का आरोप है कि दारोगा से लेकर पटना के एसएसपी तक उसकी बात नहीं सुन रहे हैं. उनसे कहा कि शिकायत दर्ज कराने जाने पर थानाध्यक्ष ने उसकी बुरी तरह से पिटाई कर डाली. इससे उसका जीना मुश्किल हो गया था. इसलिए वह कुछ दिनों के लिए पत्नी और बच्चे के साथ वृंदावन चला गया था. लेकिन न्याय के लिए वह फिर से बिहार लौटा है. अमित ने मुख्यमंत्री नीतिश कुमार शराब से शराब माफिया पर कार्रवाई कर उसे न्याय दिलाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि अगर उसे न्याय नहीं मिला तो पत्नी और बच्चे समेत पूरा परिवार आत्मदाह कर लेंगे.

CM नीतीश ने सरकारी कर्मचारियों, छोटे व्यवसायियों और छात्रों को दिया बड़ा तोहफा

गौरतलब है कि शराबबंदी को सफल बनाने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ये ऐलान कर चुके हैं कि शराब माफिया पर नकेल कसने में आमलोग मदद करें. पुलिस को सूचना देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी और सरकार उसे सुरक्षा भी मुहैया कराएगी. बिहार में विगत विधानसभा चुनाव में जेडीयू की घोषणापत्र में शराबबंदी मुख्य मुद्दा था. नीतीश कुमार ने शराबबंदी कानून पर खूब ध्यान दिया, जो आज भी लागू है. बिहार में देसी-विदेशी शराब की बिक्री और उपभोग पूरी तरह प्रतिबंधित है. बता दें बिहार में अप्रैल 2016 को अपराध और घरेलू हिंसा के मामलों को कम करने के मकसद से शराबबंदी कानून को लागू किया गया था.

पटना: यात्रियों से भरी नाव में लगा हाईटेंशन तार से करेंट, 38 झुलसे, 4 लापता

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें