बुक स्टोर गार्ड पर हुआ चाकू से हमला, हुई मौत, घटना सीसीटीवी में कैद

Smart News Team, Last updated: Tue, 24th Nov 2020, 12:25 AM IST
  • बिहार की राजधानी पटना के रूपसपुर थाना क्षेत्र में बुक स्टोर के गार्ड पर चाकू से हमला करके उसकी हत्या कर दी. दूसरे दिन किताब स्टोर के कर्मी वहां पहुंचे तो गार्ड को मारा हुआ देखकर पुलिस को सुचना दी. गार्ड के साथ हुई घटना दुकान पर लगे सीसीटीवी म कैद हो गई. जिसके बिनाह पर पुलिस जाँच कर रही है.
गार्ड की मौत से उसके परिजनों में कोहराम

बिहार की राजधानी पटना में एक बुक स्टोर के गार्ड को चाकू से मारकर हत्या कर दिया गया. यह घटना रूपसपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत हुआ. मृतक की पहचान पालीगंज थाना के सदुरा के निवासी 45 वर्षीय अखिलेश कुमार के रूप में हुई है. वह डीपीएस स्कूल की किताब मिलने वाली बुक स्टोर में गार्ड की नौकरी करता था. जहां पर किसी ने उसपर चाकू से हमला कर उसकी हत्या कर दी. इस घटना के बारे में पुलिस को सूचना स्टोर में काम करने वाले कर्मियों ने दी. गार्ड के साथ हुई घटना वहां सीसीटीवी कैमरे में रिकॉर्ड हो गई है.

मृतक गार्ड अखिलेश कुमार पिछले डेढ़ साल से बेली गार्डेन के पास स्थित एक विद्यार्थी इंटर प्राइवेट स्टोर में गार्ड की नौकरी करता था. जिस स्टोर में वह नौकरी करता था वहां पर दिल्ली पब्लिक स्कूल की किताब कॉपी भी मिलती है. मृतक अखिलेश की हत्या रविवार की रात को हुई. रविवार की रात करीब 12 बजे स्तरों की चारदीवारी को फांदकर एक युवक अंदर आया. उस युवक ने अखिलेश से दरवाजा खुलवाया और उसपर चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया. इस हमले में गार्ड अखिलेश की जान चली गई.

बार-बालाओं संग अश्लील डांस को लेकर फायरिंग, डीजे संचालक को लगी गोली, हालत गंभीर

सोमवार को जब स्टोर के अन्य कर्मी दुकान पर पहुचे तो अखिलेश को मरा हुआ देख सकते में हो गए. पुलिस को अखिलेश की हत्या हो जाने की सूचना स्टोर के ही कर्मियों ने दी. सूचना पाकर पहुची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. स्टोर पर हुई सारी घटना वहां लगे सीसीटीवी में कैद हो गई है. जिसके बिनाह पर पुलिस कातिल का पता लगाने में जुटी हुई है.

पटना: जाम से मिलेगी निजात, 30 नवंबर तक चालू होगी दीघा-एम्स एलिवेटेड रोड

थानाध्यक्ष चंद्र भानू ने ने इस घटना के बारे में बताया कि अखिलेश की बहन शिल्पी का विवाह 2013 में हुआ था जिसे उसके पति ने एक साल बाद छोड़ दिया था. जिसका मुकदमा अभी कोर्ट में चल रहा है. उन्होंने ने आगे कहा कि सभी बिंदुओं को ध्यान में रखकर जांच पड़ताल किया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें