पटना: अपराधियों का आतंक, बेटी से छेड़खानी का विरोध करने पर मां की गोली मारकर हत्या

Smart News Team, Last updated: 03/03/2021 05:06 PM IST
  • पटना में एक बेटी के साथ छेड़खानी का विरोध करने पर बदमाशों ने गोली मारकर मां की हत्या कर दी. मौके पर पहुंचकर पुलिस ने तीन खोखे बरामद किए हैं. इस मामले में तीन आरोपियों को अरेस्ट कर लिया गया है और मुख्य आरोपी फरार है. पुलिस छापेमारी कर रही है.
पटना के फतुहा इलाके में बदमाशों ने छेड़छाड़ का विरोध करने पर परिजनों पर गोली चला दी. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार की राजधानी पटना के फतुहा इलाके में बेटी के साथ बदमाशों ने छेड़छाड़ की तो परिजनों ने इसका विरोध किया. इस पर बदमाशों ने परिजनों पर गोली चला दी. गोली लगने से बेटी की मां की मौत हो गई है. सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है, मुख्य आरोपी अभी भी फरार है.

मृतका की पहचान फतुहा थाना क्षेत्र जग्गू बिगहा के रहने वाले लल्लन यादव की पत्नी के रूप में हुई है. वहीं आरोपी की पहचान गांव के ही चन्दन कुमार के रूप में हुई है. इस घटना के बारे में मृतका के पति लल्लन और बेटे रहीस कुमार ने कहा कि पड़ोस में रहने वाले विनय कुमार का बेटा चंदन कुमार ने छेड़खानी की घटना को अंजाम दिया था. जिसका उन लोगों ने विरोध किया था. 

पटना: बेउर जेल में रेड, पूर्व मंत्री के पास मोबाइल फोन और सिम मिला, केस दर्ज

परिजनों ने कहा कि लोक लाज को लेकर उन्होंने इसकी शिकायत पुलिस से नहीं की थी. आज सुबह अपराधियों ने उनके घर पर चढ़कर गोलीबार कर दी. जिसमे गोली लगने से आशा देवी की मौत हो गई. ये मामला बिहार की फतुहा थाना क्षेत्र के जग्गू बिगहा का है. दो दिन पहले फतुहा निवासी लल्लन यादव की नाबालिग बेटी के साथ चन्दन कुमार ने छेड़छाड़ की थी. 

पटना से भगाकर दिल्ली ले गया प्रेमी, शादी का झांसा देकर करवाया देह व्यापार

जिसके बाद दोनों पड़ोसियों के बीच झगड़ा हुआ था. इस मामले को लेकर बीती रात भी पड़ोसियों के बीच नोंक-झोंक हुई थी. बुधवार सुबह कुछ लोग लल्लन यादव के घर पर चढ़कर गोली चलाने लगे. जिसमें लल्लन यादव की पत्नी आशा देवी की मौत गोली लगने से हो गई है. मौके से पुलिस ने तीन खोखे बरामद किए हैं. तीन आरोपियों को अरेस्ट कर लिया गया है. मुख्य आरोपी चंदन फरार है, पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी हुई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें