मां ने लिया था लोन, रिकवरी एजेंट बेटी को लेकर फरार, पुलिस पूछताछ में सामने आई ये बात

Nawab Ali, Last updated: Fri, 5th Nov 2021, 8:48 AM IST
  • राजधानी पटना पुलिस ने किराये पर रह रहे एक प्रेमी जोड़े को अपनी हिरासत में लिया है. पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि प्रेमी ने अपनी प्रेमिका की मां को लोन दिलाया था और उसके घर पर लोन की रिकवरी के लिए जाता था जहां पर दोनों की मुलाकात के बाद प्यार परवान चढ़ा. पुलिस दोनों को हिरासत में लेकर पूछताछ में जुटी हुई है.
सांकेतिक फोटो

पटना. बिहार की राजधानी पटना पुलिस ने एक प्रेमी जोड़े को अपनी हिरासत में लिया है. पटना की फुलवारीशरीफ पुलिस ने किराये पर रह रहे एक प्रेमी जोड़े को अपनी हिरासत में लेकर पूछताछ की तो हैरान करने वाला मामला सामने आया. लड़की झारखंड के हजारीबाग की रहने वाली है, पुलिस में पूछताछ में पता चला कि लड़का एक फाइनेंस कंपनी में नौकरी करता था. और उसने लड़की की मां को लोन दिलाया था. लोन की रिकवरी के लिए अक्सर युवक महिला के घर जाता था जहां पर महिला की बेटी से उसका प्रेम प्रसंग शुरू हुआ था.

राजधानी पटना में एक प्रेमी जोड़े पर शक होने पर पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया. किराए के मकान में रह रहे इ, जोड़े के संदिग्ध होने पर आस-पास के लोगों को शक हुआ जिसकी जानकारी पुलिस को दी गई. इसके बाद पुलिस ने इन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की. पुलिस को मिली जानकारी के मुताबिक दोनों अपने घर से भागे थे. दोनों के परिवार वाले उनकी तलाश में हैं. उन्होंने बताया कि परिवार उनकी शादी के खिलाफ है इसलिए दोनों घर से भागकर पटना आ गए. लड़की झारखंड के हजारीबाग की रहने वाली है. लड़का उसी इलाके में फाइनेंस कंपनी में नौकरी करता था. उसने अपनी प्रेमिका की मां को लोन दिलाया था. प्रेमी अपने लोन की रिकवरी के लिए प्रेमिका के घर पर आया करता था जहां पर दोनों का इश्क परवान चढ़ा. जब प्रेमिका के घरवालों दोनों के प्रेम प्रसंग की जानकारी हुई तो उन्होंने लड़के के साथ शादी को इंकार कर दिया. 

बिहार में जहरीली शराब से हुई मौतों पर बोले CM नीतीश- जब गड़बड़ चीज पीजियेगा तो यही सब होगा

प्यार में साथ जीने-मरने की कसम खाकर प्रेमी जोड़ा घर से फरार हो गया और बिहार के पटना में किराए पर रहने लगा. पुलिस ने दोनों से पूछताछ करने के बाद परिजनों को सूचना दे दी है. जिसके बाद परिजनों के आने पर ही आगे की कार्रवाई करेगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें