एक्सीडेंट रोकने को हाइवे पर बढ़ेंगे CCTV कैमरे, स्पीड गन से निगरानी और चालान

Smart News Team, Last updated: 22/11/2020 03:19 PM IST
  • राजकीय और राष्ट्रीय राजमार्गों पर सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सीसीटीवी कैमरों और स्पीड गन की संख्या बढ़ाने का फैसला किया गया है. कैमरों की मदद से गाड़ियों की स्पीड पर निगरानी रखी जाएगी और नियमों का उल्लंघन करने वाले पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.
तेज रफ्तार से चलने वाली गाड़ियों पर लगाम लगाने के लिए कैमरोें की संख्या बढाएगा विभाग.(प्रतीकात्मक फोटो)

पटना. परिवहन विभाग ने तेज रफ्तार से चलने वाली गाड़ियों पर लगाम लगाने के लिए राजकीय और राष्ट्रीय  राजमार्गों पर सीसीटीवी कैमरे और स्पीड गन की संख्या को बढ़ाने का फैसला लिया है. इसका उद्देश्य सड़क दुर्घटना को कम करना है. कैमरों और स्पीड गन के माध्यम से सड़कों पर चल रहे वाहनों पर रफ्तार को लेकर नजर रखी जाएगी. तेज रफ्तार से चलने वाले चालकों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. परिवहन विभाग इसके लिए सीआईडी की सहायता लेने वाला है. 

राजकीय और राष्ट्रीय राजमार्गों पर बढ़ती दुर्घटनाओं को देखते हुए विभाग ने फैसला लिया है कि अब कई और जगहों पर कैमरे और स्पीड गन लगाने काम किया जाएगा. अधिकारियों की जानकारी के अनुसार सड़क पर होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए पेट्रोलिंग की जाएगी ताकि तेज रफ्तार से चलने वालों पर कार्रवाई की जा सके. परिवहन विभाग और सीआईडी दोनों मिलकर इस योजना पर काम करेंगे. 

तेजस्वी ने NDA सरकार को कहा- CM नीतीश के आधा दर्जन से ज्यादा मंत्री हैं दागदार

जानें सीसीटीवी कैमरा और स्पीड गन से कैसे होता है चालान

बता दें कि कैमरा और स्पीड गन से ओवरस्पीड रिकॉर्ड होने पर 2 हजार तक का चालान हो सकता है. इससे आप जहां भी स्पीड नियमों का उल्लंघन करते हुए गाड़ी चलाएंगे वहां आपकी गाड़ी की स्पीड रिकॉर्ड हो जाएगी.

सीसीटीवी से ओवरस्पीडिंग रिकॉर्ड होने के बाद पुलिस विभाग में वीडियो की जांच की जाती है जिसके बाद चालान घर या ऑनलाइन भेजा जाता है.

वहीं स्पीड गन लेकर पुलिस सड़क किनारे तैनात रहती है जिससे ओवर स्पीडिंग करने वालों को वहीं पकड़ा जा सके. पुलिस ऑन स्पॉट लाइसेंस जब्त कर चालान कर देती है. चालान को कोर्ट में जमा करने के बाद ड्राइविंग लाइसेंस छुड़ाया जा सकता है.  

फास्टटैग अभी तक नहीं लगवाया है तो यहां जानें कैसे मिलेगा, अब कैश लेन-देन बंद

नेशनल हाइवे पर कार के लिए स्पीड लिमिट 100 होती है जिससे ऊपर जाने पर चालान हो सकता है. वहीं शहर में कई सड़कों पर 50 किमी की स्पीड अधिकतम होती है. वहीं कुछ सड़कों पर 30 किमी प्रति घंटा स्पीड को अधिकतम रखा गया है. इसका उल्लंघन करने पर ड्राइवर को चालान देना पड़ सकता है. बार-बार चालान होने पर ड्राइविंग लाइसेंस कैंसिल भी किया जा सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें