बिहार में बच्चों की नई बीमारी, पटना में मिला पहला MIS-C से संक्रमित बच्चा

Smart News Team, Last updated: Thu, 3rd Jun 2021, 7:48 AM IST
  • पटना में पहली बार बच्चों को होने वाली एक नई बीमारी जिसका नाम एमआईएस-सी है, उससे संक्रमित एक आठ साल का बच्चा मिला है. आरटीपीसीआर जांच करने पर बच्चा कोरोना निगेटिव पाया गया था, लेकिन एचआरसिटी स्कैन में उसके फेफड़े का संक्रमण स्कोर 22/25 पाया गया.
बिहार में बच्चों की नई बीमारी

पटना। बिहार में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से काफी बड़े पैमाने पर तबाही मची है. कोरोना के बाद राजधानी पटना में पहली बार बच्चों को होने वाली एक नई बीमारी जिसका नाम एमआईएस-सी है, उससे संक्रमित एक बच्चा मिला है. यह आठ साल का बच्चा छपरा का रहने वाला है. बच्चे की तबीयत खराब होने पर उसे 22 मई को गंभीर हालत में आईजीआईएमएस में भर्ती कराया गया था. बच्चे को अस्पताल में भर्ती कराया गया था उस समय उसे सांस लेने में परेशानी के साथ साथ खांसी और बुखार भी था.

बच्चे की हालत के बारे में अस्पताल अधीक्षक डॉ. मनीष मंडल ने कहा कि आरटीपीसीआर जांच करने पर बच्चा कोरोना निगेटिव पाया गया था, लेकिन एचआरसिटी स्कैन में उसके फेफड़े का संक्रमण स्कोर 22/25 पाया गया. ये संक्रमण एचआरसिटी स्कैन में ही पता लग पा रहा है. बताया गया कि बच्चे के लिवर और किडनी में भी संक्रमण फैल चुका था बच्चे का फेफड़ा 90 प्रतिशत संक्रमित हो चुका था. कोविड में अक्सर फेफडृा तक ही संक्रमण पहुंचता है लेकिन इस बच्चे का किडनी और लिवर तक संक्रमित हो चुका था.

बिहार: कोरोना सेकंड वेव में 100 डॉक्टरों की मौत की जांच में IMA को मिली ये वजहें

बच्चे का इलाज कर रहे डाक्टरों ने शुरुआत में इसे कोरोना की तीसरी लहर से पीड़ित होने की आशंका जताई थी. संक्रमित बच्चे को रेमडेसिवीर,एंटीबायटिक, स्टेराइड के साथ साथ नेबुलाइजेशन भी दिया गया. बच्चे की हालत में कुछ सुधार होने पर उसे पीकू भेज दिया गया, जहां पर बच्चे का इलाज शिशु रोग विभाग के डॉ. राकेश कुमार, डॉ. आनंद कुमार गुप्ता और डॉ. सुनील की टीम की देखरेख में किया जा रहा है. बच्चे की हालत में पहले से कुछ सुधार आया है. बुधवार से बच्चे ने अस्पताल में पहली बार खाना-पीना शुरू किया है.

पटना अनलॉक: नई कोविड लॉकडाउन गाइडलाइंस के साथ सरकारी कार्यालय और बाजार खुले

बच्चे की हालत के बारे में जानकारी देते हुए डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि अभी तीसरी लहर कहना थोड़ी जल्दबाजी होगी, लेकिन इसमें नई बीमारी एमआईएस-सी यानी मल्टीसिस्टम इन्फ्लेमेटरी सिंड्राम के सभी लक्षण मौजूद हैं. यह पोस्ट कोविड बीमारी है जो बच्चों के फेफड़े के साथ किडनी, लिवर और अन्य अंगों को संक्रमित करती है. समय पर इलाज हो तो इसका इलाज पूरी तरह से संभव है.

 

 

बिहार: कोरोना सेकंड वेव में 100 डॉक्टरों की मौत की जांच में IMA को मिली ये वजहें

 

 

पटना अनलॉक: नई कोविड लॉकडाउन गाइडलाइंस के साथ सरकारी कार्यालय और बाजार खुले

 

 

|#+|

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें