खौफ में जी रहे बिहार के नवनिर्वाचित मुखिया, पंचायत चुनाव बाद से 6 की हुई हत्या

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 21st Jan 2022, 3:37 PM IST
  • बिहार पंचायत चुनाव के बाद नवनिर्वाचित हुए छह ग्राम प्रधानों की हत्या को चुकी है, जिसको लेकर बिहार मुखिया संघ के प्रतिनिधियों ने पंचायती राज मंत्री और डीजीपी से मुलाकात की. ​जिसमें उन्होंने ग्राम प्रधानों की सुरक्षा को लेकर मांग किया है.
खौफ में जी रहे बिहार के नवनिर्वाचित मुखिया, पंचायत चुनाव बाद से 6 की हुई हत्या

पटना. बिहार में पंचायत चुनाव पूरे हो चुके है. चुनाव के बाद भी अभी तक राजनितिक हिंसा थमने का नाम नहीं ले रहे है. चुनाव के बाद से ही एक के बाद एक करके कई मुखिया को अपराधियों के हमले के शिकार बन चुके है. नवंबर महीने से लेकर जनवरी तक अभी तक आधा दर्जन मुखिया को मौत के घाट उतर दिया गया है. हल ही में पटना के दो मुखिया को गोली मरकर हत्या कर दी गई है. जिसमें पटना के बाढ़ थाना क्षेत्र के  पंडारक पूर्वी से जीते मुखिया प्रियरंजन कुमार और फुलवारीशरीफ प्रखंड स्थित रामपुर फरीदपुर पंचायत के मुखिया नीरज कुमार की हत्या की गई है.

इतना ही नहीं हाल ही में गोपालगंज के एक नवनिर्वाचित मुखिया की हत्या कर दी गई. थावे थाना के धतिगना के मुखिया सुखल मुशहर की हत्या अपराधियों ने उनके घर के बाहर निकलते ही गोली मर दी थी. जिनकी मौत अस्पताल में इलाज के दौरान हो गई. वहीं मुंगेर के नक्सल प्रभावित धरहरा प्रखंड के अजिमगंज पंचायत के नव निर्वाचित मुखिया परमानंद टुडू की हत्या माओवादियों ने हत्या कर दी. नक्सलियों ने उनकी हत्या गला रेतकर की. ऐसे ही भोजपुर और जमुई के भी एक-एक मुखिया की हत्या कर दी गई थी.

बिहार: अचानक दो दिन में 350 से अधिक मुर्गियों की मौत से मचा हड़कंप,शुरू हुई जांच

पंचायत चुनाव के खत्म होने के बाद भी मुखियाओं पर हो रहे हमले और उनकी हत्याको के मामले को लेकर बिहार मुखिया संघ के प्रतिनिधियों ने पंचायती राज मंत्री और डीजीपी से मुलाकात की. इस मुलाकात में संघ के प्रतिनिधियों ने मुखिया की सुरक्षा को लेकर बात की. इसके साथ ही मुखियाओं की सुरक्षा के लिए खास रणनीति तैयार करने की मांग की है. इसके साथ ही संघ के प्रतिनिधियों ने मुखियाओं के हत्या में शामिल आरोपियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें