बिहार सरकार में सेक्रेटरी-राज के खिलाफ नीतीश के मंत्री मदन सहनी इस्तीफा देंगे

Smart News Team, Last updated: Thu, 1st Jul 2021, 8:37 PM IST
  • बिहार की नीतीश कुमार सरकार के समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने कैबिनेट से इस्तीफा देने की घोषणा कर दी है क्योंकि उनके विभाग में ट्रांसफर-पोस्टिंग की फाइल तीन दिन से अपर मुख्य सचिव के पास लंबित है. उन्होंने कहा कि जब वो जनता का काम नहीं कर सकते तो सिर्फ बंगला और गाड़ी के लिए उन्हें मंत्री नहीं रहना है.
नीतीश सरकार में जेडीयू नेता मदन सहनी पहले भी मंत्री रह चुके हैं लेकिन इस बार मंत्रियों की सूची में गठबंधन दल वीआईपी पार्टी के मुखिया मुकेश सहनी वरीयता में उनके ऊपर हैं. निषाद राजनीति में दोनों एक-दूसरे को नहीं सुहाते.

पटना. बिहार में नीतीश कुमार की सरकार में सेक्रेटरी समेत आईएएस अफसरों द्वारा मंत्रियों की भी बात नहीं सुनने की शिकायतों पर गुरुवार को समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने इस्तीफे का ऐलान करके मुहर लगा दिया. नीतीश कैबिनेट में जेडीयू कोटे के मंत्री मदन सहनी ने विभागीय ट्रांसफर-पोस्टिंग की फाइल तीन दिन से अपर मुख्य सचिव के पास लंबित रहने के बाद मीडिया को बुलाकर अपने गुस्से का इजहार किया और कहा कि जब कोई काम कर ही नहीं सकते जनता का तो मंत्री रहकर क्या करेंगे. 

मीडिया के सामने उन्होंने कहा कि इस्तीफा तैयार हो रहा है जो सीएम को भेजा जाएगा. मदन सहनी ने हालांकि नीतीश कुमार और जेडीयू के साथ बने रहने की भी घोषणा की है. सरकार में वीआईपी पार्टी के मुखिया और सन ऑफ मल्लाह के नाम से मशहूर मुकेश सहनी भी मंत्री हैं जो निषाद राजनीति में मदन सहनी के लिए बड़ी चुनौती बनकर उभरे हैं. मंत्रियों की वरीयता लिस्ट में मुकेश सहनी गठबंधन दल के नेता के तौर पर मदन सहनी से ऊपर आते हैं. 

वैक्सीन ली पर इटली, फ्रांस, जर्मनी समेत 27 देश नहीं जा सकेंगे तेजस्वी, तेजप्रताप

मदन सहनी ने पटना में मीडिया से जो कहा वो उनके ही शब्दों में आगे पढ़िए- “गुहार लगाने की क्या जरूरत है. मंत्री परिषद से संकल्प है कि जून में मंत्री स्तर से तबादला होना है. अगर वो तीन दिन से सूची लेकर बैठा रहेगा, तबादला नहीं करेगा, जब इतना साहस है उसके अंदर वो भी गलत तरीके से तो इसके बाद कुछ बचता नहीं है. मंत्री पद पर बने रहना और पटना के अंदर बड़ा सा आवास ले लेना, गाड़ी मुहैया करा लेना, जनता का काम नहीं कर पाना, इसको कितना दिन बर्दाश्त करेंगे.”

मांझी-सहनी मुलाकात पर RJD बोली- इस बरसात में डूब जाएगी नीतीश सरकार

मदन सहनी ने वैसे ये साफ कर दिया कि वो सीएम नीतीश कुमार के साथ हैं और आगे भी रहेंगे. जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या आपने सीएम को इस अफसरशाही की शिकायत की है तो सहनी ने कहा- “उनको सब पता है. हम बताकर ब्लैकमेल क्यों करेंगे जिससे वो कहेंगे कि दबाव की राजनीति कर रहा है. हम ब्लैकमेल करने को इस्तीफा नहीं दे रहे हैं. इस सिस्टम के खिलाफ इस्तीफा दे रहे हैं.” जब पत्रकारों ने कहा कि अगर अधिकारी को हटा दिया जाए और ट्रांसफर आदेश जारी हो जाए तो वो क्या करेंगे- जवाब में सहनी ने कहा कि वो मोल-भाव करने के लिए इस्तीफा नहीं दे रहे हैं

.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें