मिथिला विश्वविद्यालय के 41 कालेजों में 10200 अतिरिक्त सीट बढ़ाने को बिहार सरकार की मंजूरी

Uttam Kumar, Last updated: Sat, 6th Nov 2021, 12:37 PM IST
  • बिहार सरकार ने ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के अधीन अंगीभूत 41 कालेजों में स्नातक पाठ्यक्रम के लिए 10200 सीट बढ़ाने की मंजूरी दे दी है. सरकार की तरफ से दरभंगा के 14 कालेज, मधुबनी के 13, समस्तीपुर के 12 सहित बेगूसराय के कालेजों में स्नातक में अतिरिक्त सीटें बढ़ाने की मंजूरी दी गई है. 
ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय. फाइल फोटो

पटना. बिहार सरकार ने ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय(Lalit Narayan Mithila universities) के अधीन अंगीभूत 41 कालेजों में स्नातक पाठ्यक्रम के लिए 10200 सीट बढ़ाने की मंजूरी दे दी है. विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. मुश्ताक अहमद के अनुसार विश्वविद्यालय के अधीन कालेजों में अतिरिक्त सीटों की मंजूरी की जानकारी उच्च शिक्षा विभाग की तरफ से ई. मेल के माध्यम से दी गई. 10200 अतिरिक्त सीट बढ़ने से दरभंगा समेत समस्तीपुर, बेगूसराय और मधुबनी जिले के छात्रों के लिए काफी फायदेमंद होगा. सभी छात्र स्नातक में अब अपने मनपंसद विषयों का चयन कर पाएंगे. साथ ही नामांकन में किसी तरह की समस्या नहीं होगी.

स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. विजय कुमार यादव के अनुसार बिहार सरकार को विश्वविद्यालय के अधीन अंगीभूत कालेजों में स्नातक पाठ्यक्रम के मुख्य विषयों में सीटें बढ़ाने को लेकर पत्र लिखा गया था. जिस पर विचार करते हुए राज्य सरकार ने सीट बढ़ाने की मंजूरी दी है. बिहार सरकार के इस फैसले से सकल नामांकन अनुपात बढ़ेगा. इतिहास, राजनीति विज्ञान, भूगोल, गणित सहित दो दर्जन से अधिक विषयों में 10200 सीटें अतिरिक्त जोड़ी गई है.  

IBPS के 4135 पदों पर भर्ती के लिए 10 नवंबर आवेदन की लास्ट डेट, फुल डिटेल्स

बिहार सरकार के इस फैसले से राज्य में उच्च शिक्षा में छात्रों के सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) बढ़ेगा. जानकारी के मुताबिक दरभंगा के 14 कालेज, मधुबनी के 13, समस्तीपुर के 12 सहित बेगूसराय के कालेजों में स्नातक स्तर की पाठ्यक्रमों में अतिरिक्त सीटें बढ़ाने की मंजूरी दी है. बिहार सरकार के इस फैसले के बाद अब विद्यार्थियों को कॉलेजों में सीट के अभाव में भटकना नहीं पड़ेगा.  

सत्र 2020-23 में नामांकन को लेकर सभी विषयों में कुल एक लाख 78 हजार पांच सौ 13 आवेदन मिले थे.  इसमें सर्वाधिक पारंपरिक इतिहास पाठ्यक्रम के लिए सबसे अधिक 25 हजार तीन सौ 94 सीटों के लिए 41 हजार आठ सौ 16 आवेदन प्राप्त हुए थे. बिहार सरकार द्वारा अतिरिक्त सीटों की मंजूरी के बाद छात्रों को राहत मिलेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें