बिहार में अपग्रेड होगा ब्रेथ एनलाइजर, फूंक मारते ही तैयार होगी डिजिटल रिपोर्ट कि शराब पी है या नहीं

Uttam Kumar, Last updated: Thu, 13th Jan 2022, 1:57 PM IST
  • बिहार उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग ब्रेथ एनलाइजर को डिजिटल करने में जुटा है. विभाग द्वारा तैयार किए जा रहे ब्रेथ एनलाइजर में फूंक मारने के बाद व्यक्ति की खुद व खुद ऑनलाइन रिपोर्ट भेजेगा की व्यक्ति ने शराब पी है या नहीं. और कितनी पिया है. इस रिपोर्ट में किसी तरह का कोई बदलाव या लीपापोती नहीं किया जा सकेगा.
ब्रेथ एनलाइजर. (फाइल फोटो)

पटना : बिहार में मुख्यमंत्री के शराबबंदी अभियान को पुरी तरह सफल बनाने के लिए उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग द्वारा विशेष तैयारी की जा रही है. उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग ब्रेथ एनलाइजर को डिजिटल करने में जुटा है. विभाग द्वारा तैयार किए जा रहे ब्रेथ एनलाइजर में फूंक मारने के बाद व्यक्ति की खुद व खुद ऑनलाइन रिपोर्ट तैयार हो जाएगी. जिससे यह साफ पता चल जाएगा कि किसी खास लोकेशन में चल रही जांच के दौरान किसने शराब पी रखा था और किसने नहीं पी. 

इस बदलाव के बाद पुलिस शराबबंदी के मामले में किसी तरह का कोई हेराफेरी नहीं कर पाएगी. क्योंकि ब्रेथ एनलाइजर द्वारा तैयार रियल टाइम रिपोर्टिंग में किसी तरह की लीपापोती संभव नहीं है. दरअसल उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग ब्रेथ एनेलाइजर को ऑनलाइन डैश बोर्ड से जोड़ने की योजना बना रही है. जहां विभाग द्वारा पल - पल का डाटा डैशबोर्ड पर अपडेट किया जाएगा. उत्पाद एवं मद्य निषेध  विभाग के अनुसार ब्रेथ एनेलाइजर को इंटरनेट से जोड़ा जाएगा. जहां पर इंटरनेट उपलब्ध नहीं होगा वहाँ डाटा मशीन में स्टोर हो जाएगा. इसके बाद इंटरनेट की कनेक्टिविटी मिलते ही डेटा डैश बोर्ड पर अपलोड हो जाएगी. 

सक्सेस स्टोरी: पटना के किसान ने स्ट्रॉबेरी की उन्नत खेती से तीन महीने में कमाए डेढ़ लाख

इस बदलाव से इस मामले में होने वाली कार्रवाई की मॉनीटरिंग भी संभव होगी. अभी तक ब्रेथ एनलाइजर में केवल अक्षांश और देशांतर प्रदर्शित करने की व्यवस्था है. नई व्यवस्था में रिपोर्ट में होने वाली गड़बड़ी काफी हद तक दूर हो जाएगी. साथ ही मामले की जांच कर रहे उत्पाद कर्मीयों या पुलिसकर्मियों पर भी निगाह रखना आसान हो जाएगा. उत्पाद विभाग की ओर से इसके लिए डैश बोर्ड बनाने हेतु टेंडर की तैयारी की जा रही है. 

इस तकनीक को लागू करने वाली कंपनियों से प्रस्ताव मांगे जाएंगे. विभाग की ओर से ब्रेथ एनलाइजर मशीन की क्षमता को भी अपडेट करने की तैयारी चल रही है. अभी तक ब्रेथ एनलाइजर जिस सीमा तक अल्कोहल को जांच कर पाता है, उससे कम मात्रा में भी अल्कोहल शरीर में रहने पर भी जांच संभव हो पाएगा. शराबबंदी पर नीतीश सरकार काफी सख्त नजर आ रही है. बिहार पुलिस द्वारा शराबबंदी अभियान के दौरान राज्य में एक से 5 जनवरी के बीच 7144 लीटर देसी और 12,427 लीटर विदेशी शराब जब्त की गई. साथ ही इस दौरान कच्ची शराब बनाने वाली 160 भट्ठीया ध्वस्त की गई है. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें