स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को नीतीश सरकार देगी आयुर्वेद को बढ़ावा,करेगी ये काम

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 12th Dec 2021, 8:59 AM IST
  • बिहार के सीएम नीतीश कुमार अब स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार के लिए आयुर्वेद को बढ़ावा देने जा रहे हैं. नीतीश कुमार ने बिहार में अधिकारियों को निर्देश दिए है कि राजगीर समते बिहार में जितने भी पहाड़ मौजूद हैं उनमें मौजूद जड़ी बूटियों का अध्ययन कराया जाए. इसके लिए जल्द ही टीम का गठन किया जाए.
स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार को नीतीश सरकार देगी आयुर्वेद को बढ़ावा,करेगी ये काम

पटना. बिहार के राजगीर में आयोजित आयुर्वेद पर्व पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहुंचे. नीतीश कुमार ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया. इश दौरान उन्होंने आयुर्वेद की कई खूबियों के बारे में भी चर्चा की. सीएम नीतीश कुमार ने राजगीर समेत बिहार में मौजूद पर्वतों पर जड़ी बूटियों व आयुर्वेद औषधियों के संबंध में जानकारी देते हुए उन्होंने ऐलान किया कि जल्द ही राज्य के सभी पर्वतों में स्थिति जड़ी बूटियों का अध्ययन किया जाएगा. इसके लिए आयुष विभाग के विषेषज्ञ व स्वास्थ्य विभाग के उच्चस्तरीय अधिकारियों की टीम का गठन किया जाएगा.

राजगीर में होगी नेचुरोपैथी शोध संस्थान की स्थापना

सीएम नीतीश कुमार से राजगीर में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने को लेकर ऐलान किया कि राजगीर में सरकार जल्द ही नेचुरोपैथी शोध संस्थान की स्थापना करने जा रही है. इस संस्थान का मुख्य उद्देश्य नेचुरोपैथी के जरिए लोगों का इलाज करना होगा.

मामा साधु यादव पर भड़के तेज प्रताप, कहा- मार के गरदा उड़ा देब, रुक आवतानी बिहार

राज्य के सभी राजकीय आयुर्वेद कॉलेज का विस्तार

नीतीश कुमार ने राज्य में दीनहीन दशा में पड़े राजकीय आयुर्वेद को लेकर कहा कि जल्ह दी सरकार इसको लेकर काम करने जा रही है. राज्य में सभी राजकीय आयुर्वेद कॉलेज के विस्तार व जीर्णोद्धार की योजना बनाई जा रही है. इनका जीर्णोद्धार करने के साथ ही विश्व स्तरीय भवनों के साथ ही इन राजकीय कॉलेज में वैश्विक स्तर की सेवाएं बहाल की जाएंगी.

Patna HC Recruitment: पटना हाईकोर्ट में डिस्ट्रिक्ट जज के पद पर बंपर वैकेंसी, ये है सैलरी

पिता ने बताया था जड़ी बूटियों के बारे में

अपने बचपन को याद करते हुए नीतीश कुमार ने बताया कि राजगीर के पर्वतों पर वो बचपन में आया करते थे. तब उनके पिता ने बताया था कि इन पर्वतों पर जड़ी बूटियों का भंडार है. अब इसको लेकर ही शोध व आकलन किया जाएगा. इन पर्वतों पर चिरौंजी, गिलोय समेत अन्य कई आयुर्वेद मौजूद हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें