बिहार में NDA से लड़ी LJP, क्या बंगाल चुनाव में BJP से लड़ेगी नीतीश की JDU ?

Smart News Team, Last updated: 17/12/2020 06:32 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव में चिराग पासवान की एलजेपी ने NDA से बाहर होकर चुनाव लड़ा लेकिन केंद्र में साथ रही, ऐसे में सवाल है कि क्या अब बंगाल विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की JDU भी एनडीए से बाहर होकर भाजपा के खिलाफ प्रत्याशी उतारेगी या मिलकर गठबंधन में चुनाव  लड़ेगी. इसी को लेकर पटना में 26 और 27 दिसंबर को जदयू अपने सभी वरिष्ठ नेताओं संग बड़ी बैठक करेगी जहां इन सभी मसलों पर जरूरी फैसले किए जा सकते हैं.
बिहार में NDA से लड़ी चिराग की LJP, क्या बंगाल चुनाव में BJP से लड़ेगी नीतीश की JDU ?

पटना. नीतीश कुमार की जेडीयू की 26 और 27 दिसंबर को दो दिवसीय नेशनल एग्जिक्यूटिव पार्टी मीटिंग होगी. इस बैठक की अध्यक्षता सीएम नीतीश कुमार करेंगे. बैठक में बिहार चुनाव में जदयू के पहले से खराब प्रदर्शन और आगामी पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में उतरने पर चर्चा होगी. बिहार में जेडीयू की साथी भाजपा पहले से ही बंगाल में जोरों-शोरों से तैयारी में जुटी है और साल 2019 लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन कर चुकी है. ऐसे में यह भी सवाल है कि क्या बंगाल में भी नीतीश की जदयू एनडीए का हिस्सा बनकर बीजेपी के साथ लड़ेगी या अकेले भाजपा और सत्ताधारी टीएमसी के साथ ताल ठोकेगी.

अगर जेडीयू वेस्ट बंगाल में एनडीए के साथ लड़ती है तो गठबंधन कुछ बिहार जैसा ही रहेगा लेकिन अगर अकेली लड़ती है तो जेडीयू को एनडीए के सामने अपने प्रत्याशी उतारने होंगे जैसे चिराग पासवान की एलजेपी ने बिहार में किया. हालांकि, एलजेपी केंद्र में एनडीए के साथ रही लेकिन बिहार में बात न बनने पर वह अकेली लड़ी. कुछ इसी तरह जेडीयू भी कर सकती है अगर वह एनडीए के साथ वेस्ट बंगाल चुनाव में नहीं उतरती है. इसी सब की चर्चा ही 26-27 दिसंबर को की जाने वाली बैठक में की जाएगी.

बिहार में BJP कैसे JDU से बड़ी पार्टी बनी, 26 दिसंबर से नीतीश का नेशनल मंथन

मालूम हो कि जेडीयू ने साल 2011 के बंगाल विधानसभा चुनाव में 50 सीटों पर चुनाव लड़ा था जबकि साल 2016 में कांग्रेस और लेफ्ट के गठबंधन के साथ सिर्फ 2 सीटों पर चुनाव लड़ा. अब पार्टी साल 2021 में होने जा रहे चुनाव को लेकर भी गंभीर है. हाल ही में जेडीयू के वरिष्ठ नेता गुलाम रसूल बलियावी ने बयान देते हुए कहा था कि पार्टी बंगाल में उतरेगी. उन्होंने कहा था कि पार्टी ने चुनाव लड़ने के लिए 75 सीटों को चिन्हित किया है और पार्टी बिना किसी गठबंधन अपने दम पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें