गंगा में कई शव मिलने पर नीतीश सरकार एक्टिव, अंतिम संस्कार के लिए निर्देश जारी

Smart News Team, Last updated: Sun, 16th May 2021, 1:57 PM IST
  • गंगा नदी से बड़ी संख्या में लावारिस शव मिलने के बाद से बिहार की राज्य सरकार तुरंत एक्शन में आ गई है. इसी संबंध में बिहार सरकार के गृह विभाग ने शनिवार को शवों के अंतिम संस्कार को लेकर दिशा-निर्देश जारी किया है.
गंगा में कई शव मिलने पर नीतीश सरकार एक्टिव, अंतिम संस्कार के लिए निर्देश जारी

पटना। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने तबाही मचा रखी है. कोरोना से संक्रमित होने वाले मरीजों का आंकड़ा हजारों और लाखों की संख्या में है. इस वायरस से संक्रमित होने वाले मरीजों और मरने वालों की तादाद इतनी ज्यादा है कि उनकी अंतिम क्रिया करने के लिए जगह नहीं बची है. हाल ही हालत इतने बुरे हो गए हैं कि देश के विभिन्न हिस्सों में स्थित नदियों में शव बहते हुए नजर आ रहे हैं जिनकी संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है.

अभी हाल ही में गंगा नदी से बड़ी संख्या में लावारिस शव मिलने के बाद से बिहार की राज्य सरकार तुरंत एक्शन में आ गई है. इसी संबंध में बिहार सरकार के गृह विभाग ने शनिवार को शवों की अंत्येष्टि को लेकर दिशा-निर्देश जारी किया है. इस दिशा-निर्देश ने आठ बिंदुओं पर सभी डीएम-एसपी को कार्रवाई करने के लिए आदेश दिए गए हैं.

कोरोना काल में लापरवाही! पटना के अस्पताल में कूड़े के ढेर में मिली लाखों की दवा

विभाग द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अनुसार शवदाह स्थलों या अन्य किसी स्थान पर शव को बिना जलाए, अधजला या बिना दफनाए छोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. अगर कोई लावारिस शव मिलता है तो नियम के तहत उसका सम्मानपूर्वक अंतिम संस्कार किया जाएगा. सरकार द्वारा दी गई सहायता के अनुसार शवों के अंतिम संस्कार के लिए कोरोना मरीज के शव या किसी भी लावारिस शव का बिना शुल्क अंत्येष्टि, बीपीएल को मिलनेवाला कबीर अंत्येष्टि अनुदान लाभुकों को दिए जाना सुनिश्चित करने को कहा गया है.

बिहार में इस जगह 2 से 18 साल तक के बच्चों पर होगा कोरोना वैक्सीन का ट्रायल

किसी भी सरकारी एवं निजी अस्पताल में जहां भी कोरोना मरीजों का इलाज किया जा रहा है वहां से समन्वय बनाकर शवों की पूर्ण अंत्येष्टि सुनिश्चित करने को कहा गया है. इसके साथ ही, शवदाह स्थलों और घाटों पर पुलिस की तैनाती कर चौकसी बढ़ने और शवों के सम्मानपूर्वक अंतिम संस्कार के जागरूकता अभियान को चलाने के लिए भी निर्देश दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें