नशे में मिला पुलिसकर्मी तो जाएगी नौकरी के आदेश पर विपक्ष ने CM नीतीश को घेरा

Smart News Team, Last updated: Tue, 16th Feb 2021, 11:26 PM IST
विपक्षी पार्टियों ने सीएम नीतीश कुमार के उस आदेश पर सवाल उठाए हैं जिसमें उन्होंने ड्यूटी के दौरान नशे में की हालत में जाने वाले पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने का आदेश दिया था.
सीएम नीतीश कुमार ने नशे की हालत में पाए जाने वाले पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने का आदेश दिया है

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने नशे की हालत में मिलने वाले पुलिसकर्मियों को बर्खास्त करने का आदेश दिया है. अब इसी आदेश पर सियासत भी शुरू हो गई है. राजद समेत कई विपक्षी पार्टी ने सीएम नीतीश कुमार के इसे फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि सिर्फ पुलिसकर्मियों को बलि का बकरा क्यों बनाया जा रहा है. सरकार को यह आदेश सभी सरकारी कर्मचारियों पर लागू करना चाहिए. मालूम हो कि बिहार में शराबबंदी की समीक्षा करने के दौरान सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि नशे की हालत में पाए जाने वाले पुलिस कर्मियों को तुरंत बर्खास्त कर दिया जाएं. क्योंकि वह ड्यूटी के वक्त शराब न पीने की शपथ ले चुके हैं.

सीएम नीतीश कुमार के आदेश पर तंज कसते हुए कांग्रेस प्रवक्ता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि शराबबंदी पूरी तरह से बिहार में फेल है. कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को समीझा करनी चाहिए की शराब इतने बड़े पैमाने पर राज्य में कैसे आ रही है. मुख्यमंत्री को सिर्फ पुलिकर्मियों को बलि का बकरा बनाने के बजाया सभी सरकारी कर्मचारियों और विधायकों पर यह नियम लागू करना चाहिए. प्रेम चंद्र मिश्रा ने आगे कहा कि नीतीश सरकार का शराबबंदी का पालन नहीं करने वाले 1 लाख लोगों को गिरफ्तार करने का झूठा है. क्योंकि जब राज्य के जेलों में कुल अपराधियों को रखने की क्षमता ही 50 हजार है तो 1 लाख लोग कब गिरफ्तार किए गए.

जदयू प्रभारियों से बोले JDU अध्यक्ष आरसीपी सिंह-विपक्ष के दुष्प्रचार का दें जवाब

राजद प्रवक्ता मुत्युंजय तिवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री की छोटे लोगों को पकड़ने और बड़े अपराधियों को छोड़ने की पूरानी आदत है. सवाल उठता है कि बिना बड़े अधिकारियों की मिलीभगत से इतने बड़े पैमाने पर शराब कैसे राज्य मिल रही है. तिवारी ने आघे कहा कि जहां शराब की होम डिलीवरी की जाती हैं वहां इसके लिए दलितों पर कार्रवाई करना सरकार की नियत को दर्शाता है.

बिहार में कोरोना जांच फर्जीवाड़े के बाद क्वारंटाइन सेंटर स्कैम, जांच जारी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें