बिहार में लगेंगे एक मिनट में 3 हजार लीटर ऑक्सीजन उत्पादन करने वाले प्लांट, जानें

Smart News Team, Last updated: Mon, 10th May 2021, 10:39 PM IST
  • केंद्र सरकार के निर्देश पर पेट्रोलियम मंत्रालय की ओर से बिहार के 9 मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाने का निर्णय लिया गया है. इन संयंत्रों के लगने से कोरोना मरीजों को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन मिलने के साथ ही इसका भविष्य में भी लाभ मिलेगा.
बिहार के 9 मेडिकल कॉलेज में लगाए जाएंगे 3000 लीटर प्रति मिनट वाले ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना. कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति करने के लिए बिहार में मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में 2500 से 3000 लीटर प्रति मिनट वाले ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र लगाए जाएंगे. इन संयंत्रों के लगने से भविष्य में भी इसका लाभ मिलेगा. वहीं कोरोना काल में मानव बल की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने एमबीबीएस और नर्सिंग के अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं की सेवा लेने का फैसला किया है. इसके लिए एमबीबीएस के छात्रों को 15 हजार, बीएससी नर्सिंग को 14 हजार और जीएनएम के छात्रों को 12 हजार रुपये प्रतिमाह दिया जाएगा.

राज्य के 9 मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में पेट्रोलियम मंत्रालय की ओर से ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाए जाएंगे. यह निर्णय केंद्र सरकार के निर्देश पर लिया गया है. स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार ऑयल इंडिया लिमिटेड की ओर से एनएमसीएच पटना, जेकेटीएमसीएच मधेपुरा, विम्स राजगीर और एमएनएमसीएच गया में 2500 (एलपीएम) क्षमता वाला ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र लगाया जाएगा. इसके अलावा पीएमसीएच में 5000 (एलपीएम) क्षमता वाला ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट लगाया जाएगा.

रेमडेसिविर के नाम पर अवैध वसूली पर पटना में अस्पताल मालिक और मैनेजर पर केस

वहीं नमलीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड यानी एनआरएल की ओर से दो हजार लीटर प्रति मिनट क्षमता वाला ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर, डीएमसीएच दरभंगा, जेएलएनएमसीएच भागलपुर और एमजीकेएमसीएच बेतिया में लगाया जाएगा. इस पर कुल खर्च 21 करोड़ 46 लाख का आयेगा. इसके अलावा सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने विज्ञप्ति जारी करके जानकारी दी है कि एमबीबीएस और नर्सिंग शिक्षा से जुड़े अंतिम वर्ष के छात्रों की भी सेवा ली जाएगी. जिन छात्र-छात्रों की नियुक्ति की जाएगी, उनकी कोरोना काल में की गई 100 दिन की सेवा को एक वर्ष के समतुल्य मानते हुए नियमित नियुक्ति में अंक मिलेंगे.

बिहार में 20 रुपए का ये कैप्सूल प्रदूषण करेगा दूर, 15 दिन में खाद बन जाएगी पराली

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें