बिहार के गांवों में बनेंगे सामुदायिक भवन, पंचायती राज विभाग का प्रस्ताव तैयार

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 10:01 AM IST
  • बिहार के एक लाख 14 हजार गांवों में सामुदायिक केंद्रों के निर्माण के लिए कार्य किया जाएगा. इसमें दो कमरे और एक बहुउद्देशीय हॉल का निर्माण किया जा रहा है. उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही कैबिनेट से इसे मंजूरी मिल जाएगी जिसके बाद से भवन निर्माण की मंजूरी मिल जाएगी.
सामुदायिक भवन ने पंचायती राज विभाग ने तैयार किया प्रस्ताव.(प्रतीकात्मक फोटो)

पटना. बिहार के ग्रामीण क्षेत्रों में समुदायिक भवन निर्माण के लिए पंचायती राज विभाग ने खाका तैयार कर लिया है. इसके तहत बिहार के एक लाख 14 हजार गांवों में सामुदायिक केंद्रों के निर्माण के लिए कार्य किया जाएगा. इसमें दो कमरे और एक बहुउद्देशीय हॉल का निर्माण किया जा रहा है. उम्मीद जताई जा रही है  कि जल्द ही कैबिनेट से इसे मंजूरी मिल जाएगी जिसके बाद से भवन निर्माण की मंजूरी मिल जाएगी.

इन भवनों के निर्माण के विवाह, शादियों और कुछ अन्य कार्यक्रमों के लिए किया जा सकेगा. इसके अलावा आपातकाल जैसे बाढ़ आदि की समस्या के समय राहत सामग्री आदि के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. पारिवारिक समारोह के आयोजन के लिए एक शुल्क का निर्धारण किया जाएगा. इसमें टीवी सेट की सुविधा की जाएगी जिसका मुख्य उद्देश्य आने वाले लोग बैठकर मनोरंजन कर सकते हैं. अनुमान है कि एक सामुदायिक भवन के निर्माण में आठ लाख रूपए तक का खर्चा आ सकता है. इसके लिए 15 वें वित्त आयोग और छठे वित्त राज्य आयोग की अनुशंसा के तहत मिलने वाली राशि का उपयोग किया जाएगा. 

पटना के पूर्व टाउन डीएसपी के खिलाफ होगी विभागीय कार्यवाही, गृह विभाग का आदेश

सामुदायिक भवन का निर्माण सरकारी भूमि पर ही होगा और इसका चयन कैबिनेट की मीटिंग के बाद ही किया जाएगा. पंचायती राज विभाग के अनुसार गांव के वार्ड में अभी तक विभाग का कोई भी भवन नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें