पटना: यात्रियों से भरी नाव में लगा हाईटेंशन तार से करेंट, 38 झुलसे, 4 लापता

Smart News Team, Last updated: Mon, 16th Aug 2021, 9:58 AM IST
  • बिहार की राजधानी पटना में करेंट लगने से एक बड़ा हादसा हो गया. यात्री से भरी नाव का पतलाव हाईटेंशन तार के संपर्क में आ गई, जिससे नाव में करेंट लग गया. इस हादसे में 38 लोग झुलस गए और 4 लोगों के लापता होने की खबर है.
पटना नाव हादसे में घायल और लापता लोगों के परिवार. फोटो साभार- हिन्दुस्तान

पटना: बिहार की राजधानी पटना में बीती रात करंट लगने से एक बड़ा हादसा हो गया. पटना के गंगा नदी के कच्ची दरगाह घाट के पास यात्रियों से भरी नाव का पतवार हाईटेंशन तार से छू गया. इससे नाव में करंट दौड़ गया और एक बड़ा हादसा हो गया. इस हादसे में 38 लोग करंट की चपेट में आने से झुलस गए. वहीं चार लोग लापता बताए जा रहे हैं. सभी लापता लोगों के परिजन लगातार प्रशासन के संपर्क में हैं. 

चार लापता लोगों में रुस्तमपुर के रहने वाले मुन्ना कुमार व उमा शंकर राय और मलिकपुर के रहनेवाले राजेश राय व निखिल राय शामिल हैं. हालांकि लापता लोगों के परिजन जब प्रशासन को सूचना देंगे तभी गंगा में लापता लोगों का सही आंकड़ा स्पष्ट हो सकेगा एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें लापता लोगों की तलाश में गंगा में सर्च ऑपरेशन चला रही हैं. मौके पर मौजूद फतुहा के DSP ने 3 लोगों के लापता होने की पुष्टि की है. पुलिस के अनुसार, घायलों का इलाज पीएमसीएच और पटना के कच्ची दरगाह स्थित अलग-अलग नर्सिंग होम में चल रहा है. 

बिहार में बाढ़ से हाहाकार, इन शहरों का पटना से कनेक्शन टूटा, कई ट्रेनें डायवर्ट

बताया जा रहा है कि कल देर रात नाव कच्ची दरगाह से रुस्तमपुर के लिए निकली थी. जैसे ही नाव गंगा नदी के बीच पहुंची नाव का पतवार कच्ची दरगाह से राघोपुर जाने वाले हाईटेंशन तार के संपर्क में आ गया. नाव में काफी लोग सवार थे, जिसमें करीब 38 लोग करंट की चपेट में आने से झुलक गए. वहीं कुछ लोग अपनी जान बचाने के लिए नदी में कूद गए.

स्थानीय लोगों ने घटना को सरकार को दोषी ठहराते हुए कहा कि पक्का पुल नहीं होने के कारण मजबूरी में रोजगार को लेकर लोगों को नाव की खतरनाक सवारी करनी पड़ती है.लोगों ने राज्य सरकार से गंगा में डूबे लोगों के परिजनों को उचित मुआवजा दिए जाने की भी मांग की है.

सावधान! पटना पुलिस स्पोर्ट्स बाइक वालों की कर रही तलाश, ये है मामला

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें