पटना प्रशासन का नया प्लान, छठ पूजा पर घरों तक गंगाजल पहुंचाने के लिए लगेंगे 45 टैंकर

Swati Gautam, Last updated: Mon, 1st Nov 2021, 10:46 AM IST
  • छठ पूजा पर गंगा के बढ़ते जलस्तर के कारण प्रशासन ने लोगों की सुविधा के लिए नया प्लान शुरू किया है जिसमें पटना में 45 टैंकर लगाए जाएंगे जो घरों में गंगाजल पहुंचाने का काम करेंगे. इसको लेकर वार्डों का रुट चार्ट बनाया जा रहा है. प्रशासन की और से इस प्लान का काम तेजी से कराया जा रहा है.
पटना प्रशासन का नया प्लान, छठ पूजा पर घरों तक गंगाजल पहुंचाने के लिए लगेंगे 45 टैंकर. file photo

पटना. छठ पूजा को लेकर बिहार व अन्य राज्यों में तैयारियां शुरू हो गई हैं. लेकिन इस बार गंगा में जलस्तर बढ़ने के कारण डुबकी लगाने और घाट बनाने का खतरा बढ़ गया है. पटना प्रशासन की और से 92 घाटों में अब तक खतरनाक घाटों की सूची तैयार होनी थी लेकिन नहीं हो पाई इसके चलते ही प्रशासन ने लोगों की सुविधा के लिए नया प्लान शुरू किया है. बता दें कि इस बार पटना में 45 टैंकर लगाए जाएंगे जो घरों में गंगाजल पहुंचाने का काम करेंगे. इसको लेकर वार्डों का रुट चार्ट बनाया जा रहा है. प्रशासन की और से इस प्लान का काम तेजी से कराया जा रहा है.

कहा जा रहा है कि इस बार गंगा के जल स्तर अधिक होने से खतरनाक घाटों की संख्या भी अधिक हो सकती है. ऐसे में प्रशासन की तैयारी है कि घाटों पर जाने वालों को पार्क और अस्थाई घाटों पर डायवर्ट किया जाएगा. इतना ही नहीं प्रशासन की और से सभी घाटों पर वालंटियर लगाए जा रहे हैं जो लोगों को गंगा में डुबकी लगाने से रेाकेेंगे क्योंकि घाटों में बैरिकेडिंग को लेकर विशेष निगरानी है. यह फैसला गंगा के जलस्तर बढ़ने से बढ़ता खतरा और कोरोना से बचाव के चलते लिया गया है. साथ ही प्रशासन से सभी लोगों से अपील की है सुरक्षित छठ को लेकर घर और वार्डों में पूजा करें.

पटना: सेंटर खोल दे रहा था ठगी की ट्रेनिंग, 9 लोग मिल उड़ाते थे रुपए, गिरफ्तार

शहर में गंगा जल को वार्डों में पहुंचाने के लिए विशेष व्यवस्था की गई है. 45 टैंकर का प्रयोग कर के शहर के हर वार्ड में छठ पर नहाए खाए के दिन गंगा जल का वितरण किया जाएगा. प्रशासन का कहना है कि बांस घाट, राजापुल घाट, एलसीटी घाट और कुर्जी घाट जैसे बड़े घाटों पर अभी भी जलस्तर बढ़ा हुआ रहा, इस कारण से तैयारी में थोड़ी देरी हुई है. नगर आयुक्त का कहना है कि पटना में गंगा नदी के किनारे 92 घाट पर छठ पूजा का आयोजन होता है लेकिन बढ़ते गंगा के जलस्तर के कारण इस बार लगभग 26 से 27 की संख्या में पक्के घाट बनाए जाएंगे. छठ घाट बनाने की प्रक्रिया चल रही है. गंगा जल स्तर कम होते ही काम में तेजी आई है. कई घाट अभी भी प्रभावित है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें