पटना

पटना: डरा रहे कोरोना के नए आंकड़ें, बिना लक्षण वाले भी निकल रहे संक्रमित

Smart News Team, Last updated: 27/06/2020 04:44 PM IST
बिहार की राजधानी पटना में पिछले 15 दिनों में काफी संख्या में कोरोना के ऐसे मामले सामने आए हैं जिनकी न कोई ट्रेवल हिस्ट्री है और न ही कोई लक्ष्ण।
प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में कोरोना वायरस के मामलों में लगातार बढ़ोतरी के बीच राजधानी पटना में कम्युनिटी स्प्रेड का खतरा पनपने लगा है। राजधानी में पिछले 15 दिनों में 225 कोरोना के नए संक्रमित मामले सामने आए जिनमें 175 संक्रमितों का कोई यात्रा का इतिहास नहीं है। ये सभी लोग पटना के स्थानीय नागरिक हैं। इनमें 90 फीसदी लोग बिना लक्षण वाले कोरोना से संक्रमित हैं।

गौरतलब है कि जिले में 10 जून तक जिले में संक्रमितों की संख्या 300 थी जो आकंड़ा अगले 15 दिनों में बढ़कर 525 पर पहुंच गया। हैरानी वाली बात है कि संक्रमितों में कोरोना संक्रमण सीधे किसी प्रवासी के संपर्क में आने से नहीं है, लेकिन कहीं ना कहीं प्रवासी श्रमिकों के संपर्क में आने वाले लोगों के संपर्क में आने से जरूर फैला हो सकता है।

सिविल सर्जन डॉ. आरके चौधरी ने इस संबंध में कहा कि ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में संक्रमित के संपर्क में आने वालों के अलावा रैंडम लोगों के सैंपल भी लिए जा रहे हैं। पटना में हर रोज 520 कोरोना सैंपल लिए जा रहे हैं जिस वजह से संक्रमित ज्यादा संख्या में सामने आ रहे हैं। वहीं पीएमसीएच के एक डॉक्टर का कहना है कि 0जिन इलाके में संक्रमित मिले हैं अगर वहां सैंपलिंग अच्छे से की जाए तो काफी संख्या में संक्रमित मिल सकते हैं।

बता दें कि पटना जिले में चार मई तक संक्रमितों की संख्या मात्र 44 थी। इसके बाद जिले में प्रवासी श्रमिकों के आने की शुरुआत हुई। तभी से यहां संक्रमितों की संख्या में तेजी से बढ़ी है। मात्र 50 दिन में संक्रमित की संख्या 480 पहुंच गई है। 14 जून से क्वारंटाइन सेंटर बंद होने के बाद भी इनकी संख्या में तेजी आई है।

अन्य खबरें