पटना: अरुणाचल में राजनैतिक उथल-पुथल पर RJD ने प्रदेश कार्यालय पर लगाया पोस्टर

Smart News Team, Last updated: Fri, 1st Jan 2021, 2:33 PM IST
  • भाजपा द्वारा अरुणाचल में जेडीयू विधायकों को अपने पाले में तोड़ने पर आरजेडी ने प्रदेश कार्यालय पर पोस्टर लगाया है. पोस्टर में भाजपा नेताओं द्वारा नीतीश कुमार की कुर्सी को आरी से काटता दिखाया गया है.
आरजेडी और जेडीयू में पोस्टर वार.

पटना: राष्ट्रीय जनता दल बिहार में एनडीए सरकार को गिराने का कोई भी मौका छोड़ना नहीं. आरजेडी के पटना स्थित प्रदेश कार्यालय पर के बाहर पोस्टर लगाया गया है. पोस्टर में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कुर्सी पर बैठे नजर आ रहे है और बीजेपी नेता उसी कुर्सी के पैरों को आरी से काटते नजर आ रहे हैं. पोस्टर में नीतीश कुमार हेल्प मी की गुहार लगाते नजर आ रहे है. जानकारी के अनुसार अरूणाचल प्रदेश में जेडीयू विधायकों को भारतीय जनता पार्टी द्वारा तोड़े जाने के बाद दोनों दलों के रिश्‍ते बिगड़ते दिखाया गया है.

कार्यालय पर लगाए गए पोस्टर में भाजपा के राष्ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा व केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह आरी से कुर्सी के पैर काटते दिखाए गए हैं. साथ ही बीजेपी नेता कह रहे हैं कि काटिए, वे कुर्सी पर बैठने लायक नहीं रहें. इसी पोस्टर में बीजेपी नेताओं को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शाबासी देता हुआ दिखाया जा रहा है. पोस्‍टर को युवा आरजेडी प्रदेश महासचिव ऋषि यादव के द्वारा लगवाया बताया जा रहा है.

राजद की नीतीश कुमार को खुली चनौती-कहा अपने विधायकों को बचा सकते हो तो बचा लो

आरजेडी का पोस्टर हमला

हाल ही में बीजेपी ने अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू के सात में से छह विधायकों को अपनी ओर कर लिया. जिसपर जेडीयू ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी. अरुणाचल प्रदेश की उस घटना से बिहार में भी सियासत गर्म होती दिखी. नीतीश कुमार की नाराजगी देख आरजेडी ने उन्हें अपने पाले में लेने की कोशिश की. लेकिन आरजेडी का यह दाव कामयाव नहीं हुआ. आरजेडी के नए पोस्‍टर पर पक्ष-विपक्ष के बयान भी आने लगे हैं. आरजेडी नेता शक्ति यादव ने कहा, कि जैसी स्थिति है, वैसी तो दिखाई ही जाएगी. अगर समाजिक कार्यकर्ता इसे लेकर पोस्‍टर लगा रहे हैं तो इसमें क्‍या बुरा है.

17 विधायक JDU छोड़ RJD में जाने के दावे पर बोेले CM नीतीश- सब बेबुनियाद हैं

जीतनराम मांझी बोले- अरुणाचल जैसी गलती फिर न करे BJP, यह साफ राजनीति नहीं

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें