पटना: बाढ़ और कोरोना को लेकर नीतीश सरकार पर तेजस्वी यादव ने फिर साधा निशाना

Smart News Team, Last updated: Sat, 29th Aug 2020, 1:00 PM IST
  • पटना में राजद ऑफिस में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बाढ़ और कोरोना को लेकर नीतीश सरकार पर फिर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कुछ नहीं कर रही है.
पटना: बाढ़ और कोरोना को लेकर नीतीश सरकार पर तेजस्वी यादव ने फिर साधा निशाना

पटना. राजद ऑफिस में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने प्रेसवार्ता की. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने एक बार फिर नीतीश कुमार सरकार पर आरोप लगाए हैं कि नीतीश सरकार राज्य के लिए काम नहीं कर रही है. उनके साथ श्याम रजक और अलोक मेहता भी मौजूद थी. नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया कि सरकार बाढ़ और कोरोनावायरस की स्थिति का सुधार करने के लिए कुछ नहीं कर रही है.

उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री ने कोरोना पर नजर रखने के लिए राजनीतिक दलों की कमेटी बनाने का सदन में आश्वासन दिया था आज तक कमेटी नहीं बनी. जांच 10000 हो या दो लाख पॉजिटिव रिपोर्ट दो से ढाई हजार ही आते हैं. इसका क्या मतलब है. उन्होंने सुशांत का मामला भी उठाते हुए कहा मैंने पहल की तो सुशांत सिंह राजपूत के मामले में एक्टिव हो गए गोपालगंज हत्याकांड पर एक्टिव क्यों नहीं हो रहा है. रामाश्रय सिंह कुशवाहा जेपी यादव की पत्नी को कब न्याय मिलेगा.

पटना: तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर साधा निशाना, ट्विटर पर जमकर बरसे

इससे पहले उन्होंने शुक्रवार को भी नीतीश सरकार पर निशाना साधा था. उन्होंने ट्वीट के जरिए सराकर पर आरोप लगाए थे. उन्होंने बिहार के बाढ़, कोरोना महामारी संक्रमण के फैलने, बिहार में बेरोजगारी, प्रदेश के गंदे शहरों में गिनती, बिहार में गरीबी और प्रदेश में हुए कथित 57 घोटाले को लेकर ट्वीट किया था. 

पटना: RJD सुप्रीमो लालू से मिलने रांची गए तेजप्रताप यादव के खिलाफ झारखंड में FIR

ट्वीट में उन्होंने लिखा था बिहार में 16 जिलों के 84 लाख लोग बाढ़ से सीधे प्रभावित हैं. 40 लाख प्रवासी कामगार बेरोज़गार हैं. लाखों लोग कोरोना संक्रमित हैं. सबसे अधिक बेरोज़गारी बिहार में है. सबसे ज़्यादा गंदे शहर बिहार के हैं. सबसे ज़्यादा ग़रीबी बिहार में हैं. 15 वर्ष में हज़ारों करोड़ के सत्यापित सबसे अधिक 57 घोटाले बिहार में है. उन्होंने ये सब कहते हुए नीतीश सरकार की नाकामी दिखाई थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें