पटना

पटना में कोरोना पॉजिटिव की बाढ़, बढ़े मरीजों के बेड, मरीजों का होम आइसोलेशन भी

Smart News Team, Last updated: 07/07/2020 11:34 PM IST
  • पटना में मंगलवार को रिकॉर्ड 260 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं जो एक दिन का सबसे बड़ा फिगर है। अब सरकार मरीजों को होम आइसोलेशन की इजाजत भी दे सकती है। प्रशासन मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आइसोलेशन सेंटर और सेंटर में बेड दोनों बढ़ा रहा है।
पटना में कोरोना मरीजों की संख्या पिछले कुछ दिनों से बहुत तेजी से बढ़ी है

संजय पांडेय, पटना।

राजधानी पटना पर कोरोना वायरस का कहर टूट पड़ा है। मरीजों की संख्या हर दिन तेजी से बढ़ती जा रही है और मंगलवार को तो रिकॉर्ड 260 नए कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं जो एक दिन में अब तक का सबसे ज्यादा है। पटना में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1402 हो गई है। ऐसे में सरकार और प्रशासन ने भी मरीजों की देखभाल और इलाज के लिए कमर कसते हुए कोरोना मरीजों के लिए आइसोलेशन सेंटर और बेड बढ़ाने का काम तेजी से शुरू कर दिया है। सूत्रों का कहना है कि बिहार सरकार पॉजिटिव केसों की बढ़ती संख्या को देखते हुए दूसरे राज्यों की तरह कोरोना मरीजों को उनके घर में होम आइसोलेशन में भी रहने की इजाजत दे सकती है जिन्हें जरूरत या तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती किया जा सकेगा।

पटना जिला प्रशासन ने हर अनुमंडल में आइसोलेशन सेंटर बढ़ाने का फैसला किया है। रेलवे कर्मचारियों के लिए रेलवे का 2 कोच तथा रेलवे अस्पताल आइसोलेशन सेंटर के रूप में काम करेगा। शहरी क्षेत्र में दीप नारायण इंस्टीट्यूट, शास्त्री नगर और दशरथ मांझी इंस्टीट्यूट, हवाई अड्डा को आइसोलेशन सेंटर बनाया जाएगा।

मुख्यमंत्री आवास में कोविड-19 की एंट्री, CM नीतीश की भतीजी को हुआ कोरोना

अगले 3 दिनों में आइसोलेशन सेंटर में डेढ़ हजार के करीब बेड बढ़ाए जाएंगे। बुधवार से पटना जिले के 23 पीएचसी यानी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में भी आइसोलेशन सेंटर बनाने की तैयारी की गई है। सिविल सर्जन कार्यालय द्वारा निर्देश जारी कर दिए गए हैं ताकि पीएचसी में ही बेड, गद्दे, तकिया, मच्छरदानी, बाल्टी आदि का इंतजाम रहे और ग्रामीण क्षेत्रों के संक्रमित मरीजों को उनके इलाके में आइसोलेशन में रखा जा सके।

कोरोना: सिविल, पटना सिटी-दानापुर कोर्ट 3 दिन और बंद, वर्चुअल कोर्ट से सुनवाई

पटना में अब तक कुल 18 क्वारंटाइन सेंटर में 27 सौ बेड तैयार किया गया है जिसमें अस्पतालों के आइसोलेशन सेंटर भी शामिल हैं। पटना में मंगलवार को एक दिन का सबसे ज्यादा 210 कोरोना पॉजिटिव केस मिला है जिससे प्रशासन अलर्ट हो गया है। 

कोरोना से बेखौफ 1139 लोगों को पुलिस ने सिखाया सबक, मास्क नहीं पहनने पर जुर्माना

210 कोरोना संक्रमित में एम्स में भर्ती 24, पीएमसीएच के चार, आईजीआईएमएस के जांच लैब से 50 संक्रमित शामिल हैं। 210 लोगों में 35 एंबुलेंस चालक और स्टाफ हैं। गुरु गोविंद सिंह अस्पताल के 16 डॉक्टर और कर्मचारी के अलावा राज्य टीवी नियंत्रण इकाई के भी 12 कर्मी शामिल हैं। सबसे ज्यादा 85 लोग पटना सिटी इलाके से मिलने की बात कही जा रही है।

पटना में फूटा कोरोना का बम, एक दिन में सबसे ज्यादा 260 कोविड पॉजिटिव मरीज मिले

सूत्रों का कहना है कि पटना प्रशासन अब उन कोरोना मरीजों को भी होम आइसोलेशन में रहने की इजाजत देगा जिनके घर में पर्याप्त जगह है और वो परिवार से अलग-थलग रह सकते हैं। इससे पहले सिर्फ अस्पताल के डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ को होम आइसोलेशन की अनुमति थी लेकिन दिल्ली समेत दूसरे राज्यों में मरीजों के इलाज के इस मॉडल को अब पटना में भी अपनाया जाएगा। इससे अस्पतालों पर लोड घटेगा और सिर्फ डॉक्टरी देखभाल की जरूरत वाले मरीज ही आएंगे। होम आइसोलेशन की मॉनिटरिंग डीएम खुद करेंगे।

अन्य खबरें