केयरटेकर ने 10 लाख की फिरौती के लिए अभियंता के पिता को किया अगवा, 5 घंटे में बरामद

Sumit Rajak, Last updated: Mon, 15th Nov 2021, 7:01 AM IST
  • दस लाख की फिरौती के लिए केयरटेकर ने ही ओएनजीसी मुंबई के मुख्य अभियंता दिलीप कुमार व गुवाहाटी रेलवे के मुख्य अभियंता संजय सिंह के वृद्ध पिता यमुना प्रसाद का अपहरण कर लिया.एसएसपी उपेंद्र शर्मा की सूचना के बाद पत्रकारनगर थाने की पुलिस ने महज 5 घंटे के अंदर अपहृत वृद्ध को सकुशल बरामद करते हुए केयरटेकर राजन कुमार को गिरफ्तार कर लिया.केयरटेकर एसपीएचसी प्रा. ली. में कुछ माह से कार्यरत था. पटना में चिरैया टांग पुल के पास देर शाम पकड़ा गया.
प्रतीकात्मक फोटो

पटना. दस लाख की फिरौती के लिए केयरटेकर ने ही ओएनजीसी मुंबई के मुख्य अभियंता दिलीप कुमार व गुवाहाटी रेलवे के मुख्य अभियंता संजय सिंह के वृद्ध पिता यमुना प्रसाद का अपहरण कर लिया. अपहर्ता केयरटेकर ने फोन कर अभियंता से फिरौती की रकम भी मांगी. डिमांड पूरी नहीं होने पर उसने अंजाम बुरा होने की धमकी भी दी. एसएसपी उपेंद्र शर्मा की सूचना के बाद पत्रकारनगर थाने की पुलिस ने महज 5 घंटे के अंदर अपहृत वृद्ध को सकुशल बरामद करते हुए केयरटेकर राजन कुमार को गिरफ्तार कर लिया. पकड़ा गया केयरटेकर मूल रूप से  सखरपुर बंधु बिगहा अरवल का रहने वाला है जो कि सगुना मोर बेली रोड एसपीएचसी प्रा. लि. में कुछ ही माह से कार्यरत था.

फिरौती के लिए साढ़े 12 बजे किया कॉल

मुख्य अभियंता दिलीप कुमार ने बताया कि उनके पिता मूल रूप से ग्राम बराह, थाना बेलछी, पटना के रहने वाले हैं. दिलीप और उनके भाई संजय सिंह परिवार सहित अपनी तैनाती स्थल पर ही रहते हैं जबकि उनके पिता अपनी मर्जी से पत्रकारनगर थाना क्षेत्र के ही सिद्धि विनायक अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 307 में रहते हैं. उनकी देखभाल के लिए सगुना मोर बेली रोड स्थित एसपीएचसी प्रा. लि. से केयरटेकर का आग्रह किया गया. कंपनी की ओर से राजन कुमार को केयरटेकर के रूप में दिया गया. पिछले कुछ माह से राजन हीं उनके पिता की देखभाल करता था. मुख्य अभियंता दिलीप कुमार के मुताबिक रविवार की दोपहर करीब साढ़े 12 बजे केयरटेकर राजन ने मेरे भाई मुख्य अभियंता संजय सिंह के मोबाइल पर फोन किया. बोला कि आपके पिताजी मेरे कब्जे में है. मेरी कुछ डिमांड है.10 लाख की फिरौती चाहिए डिमांड पूरी नहीं करने पर आप अपने पिता को देख नहीं पाएंगे. दोपहर 2 बजे जब फोन पर राजन से संपर्क किया गया तो उसने कहा कि मैं रात में फोन कर फिरौती की राशि फाइनल करूंगा. इसके बाद राजन ने मोबाइल स्विच ऑफ कर दिया.

बिहार में महाजंगलराज, नीतीश सरकार की प्रशासनिक अराजकता से बढ़ा भ्रष्टाचार: तेजस्वी

सूचना मिलते ही एसएसपी ने गठित कर दी टीम 

मुख्य अभियंता ने इसकी सूचना एसएसपी को दी. मामले की गंभीरता से लेते हुए एसएसपी ने टीम गठित की. पत्रकार नगर थाना प्रभारी मनोरंजन भारती ने बताया कि पुलिस ने वैज्ञानिक अनुसंधान का सहारा लिया तो राजन की लोकेशन पॉलिगंज मिली. पॉलीगंज पहुंचकर पुलिस ने जब उसकी घेराबंदी की तो वह पटना की ओर भाग निकला. पीछा कर उसे पटना के चिरैयाटांड़ पुल के पास ऑटो में सवार होने के दौरान देर शाम पकड़ा गया.

बनना चाहता था लखपति

पुलिस के मुताबिक केयरटेकर 12वीं पास है. घर वालों के दबाव में आकर उसने सगुना मोर बेली रोड स्थित एसपीएचसी प्रा. ली. प्रतिमाह 12 हजार रुपये वेतन पाने की नौकरी कर ली. चकाचौंध की दुनिया देखकर वह रईसजादा की जिंदगी जीना चाहता था. महंगा मोबाइल, ब्रांडेड जूते, कपड़े, महंगी कार और आलीशान फ्लैट में रहने की ख्वाहिश पूरी करने के लिए उसने अभियंता के पिता का अपहरण कर फिरौती मांगने की साजिश रची लेकिन पकड़ा गया.

13 सौ में बुक किया था ऑटो 

पुलिस के मुताबिक केयरटेकर राजन कुमार ने 13 सौ रुपये में ऑटो बुक किया था. उसीसे वह पालीगंज गया और वहां से भागकर पटना आया. फिरौती मिलने तक राजन ने अपहृत को अपने गांव के घर पर रखने की योजना बनाई थी.

 पुलिस को कहा, थैंक्स 

अपहृत पिता की सकुशल बरामदगी होने के बाद परिजनों के मायूस चेहरे खिल उठे. तत्परता के साथ अपहृत की बरामदगी और आरोपित की गिरफ्तारी होने पर परिजनों ने एसएसपी समेत पुलिस को धन्यवाद दिया. परिजनों का कहना था कि पुलिस की तत्परता से पिता की जान और फिरौती की रकम बच गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें