पटना में साइबर अपराधियों ने अपनाए नए पैंतरे, ATM में रीडिंग मशीन लगाकर उड़ा रहे नोटों की गड्डियां

Smart News Team, Last updated: Tue, 15th Feb 2022, 11:17 AM IST
राजधानी में साइबर अपराध की घटनाओं का मामला बढ़ता जा रहा है. अपराधी अब लोगों के खाते से राशि उड़ाने के लिए नई नई तकनीक अपनाने लगे हैं. जालसाजों ने एटीएम में रीडिंग मशीन और स्टील की पत्ती लगाना शरू कर दिया है. इन्होंने कई एटीएम को अपना निशाना बनाया है.
File Photo

पटना : राजधानी के शहर और गांव के इलाकों में यह अपराधी गैंग काफी सक्रिय है. ये शातिर अपने इस जुगाड़ को मेन रोड से नजदीक इलाकों में स्थित एटीएम में लगाते हैं. डिवाइस रीडिंग मशीन और स्टील की पत्ती को एटीएम में लगाकर अपराधी पलक झपकते ही लोगों के खाते से मोटी रकम को निकालने का काम करने में लगे हैं. 

इस ठगी में महारत हासिल करने वाले बदमाशों ने अब नई तकनीक के सहारे लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया है. पटना में हाल ही के दिनों में एटीएम क्लोन करने और एटीएम में रुपए फंस जाने के कई मामले सामने आएं हैं. इससे पीड़ित लोगों का कहना है कि हमारे बैंक खाते या एटीएम कार्ड के बारे में किसी को जानकारी नहीं है. उन्होंने कहा कि हमने इन प्राइवेसी को किसी के साझा नहीं किया लेकिन फिर भी हमारे खाते से पैसे गायब हो रहे हैं.

Bihar Teacher Recruitment: TET और CTET प्रमाण पत्रों के आधार पर मिलेंगे नियुक्ति पत्र

साइबर एक्सपर्ट दीपक कुमार ने इस विषय पर अपनी बात रखी. उन्होंने बताया कि अधिकतर इन मामलों में शातिर एटीम की क्लोनिंग करते हैं, जिसके सहारे पैसे उड़ा लेते है. वहीं इस ठगी से परेशान लोगों का कहना है कि हमने जब एटीएम का यूज किया तो ट्रांजेक्सन तो पूरा हुआ और मोबाइल पर पैसे निकलने का मैसेज भी आ गया लेकिन एटीएम से रुपए नहीं निकले.

ऐसे होती है ATM की क्लोनिंग

ठगी के नए तनीकनीक को प्रयोग में लाने के लिए  एटीएम कार्ड की ऊपर के स्क्रीन को खोलकर उसके अंदर ये डिवाइस रीडिंग मशीन को फिट कर देते हैं, जिसमें बैट्री भी होती है. एटीएम कार्ड यूजर जैसे ही अपना कार्ड लगाते हैं तो ये मशीन इसे रीड कर लेती है. इसके बाद शातिर अपराधी इन डिटेल्स के जरिए अपने काम को अंजाम देते हैं.

ATM कार्ड का क्लोन बनाता था युवक 

पटना पुलिस ने 11 जुलाई 2021 को राहुल कुमार नाम के एक युवक को पकड़ा था. पुलिस नगर थाना क्षेत्र के राजेंद्र पथ स्थित एचडीएफसी एटीएम से आरोपित को गिरफ्तार किया था. गिरफ्तार युवक के पास से एक रीडिंग मशीन, तीन सादा एटीएम एवं चार डेबिट कार्ड बरामद किया गया था. राहुल ने पुलिस को बताया कि वो कैसे अपने काम को अंजाम देता था. उसने बताया कि एटीएम मशीन में स्क्रीन रीडिंग डिवाइस लगा देता था, जिससे एटीएम मशीन से पैसे निकालने वाले ग्राहक की डिटेल उसे आसानी से पता चल जाती थी. जिसके बाद एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर राहुल ग्राहक के सारे पैसे निकाल लेता था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें