पटना: कंटेनमेंट जोन में सख्ती फुस्स, नाम की बैरिकेडिंग, बिना रोक-टोक घूम रहे लोग

Smart News Team, Last updated: 05/08/2020 08:37 AM IST
  • पटना में कंटेनमेंट जोन में पुलिस ने बैरिकेडिंग करके आवाजाही रोकने की कोशिश की है, लेकिन किसी भी पुलिस अधिकारी के वहां मौजूद ना होने से लोग बिना किसी रोक-टोक के घूम रहे हैं. 
पटना: कंटेनमेंट जोन में बैरिकेडिंग होने के बाद भी बिना नियमों का पालन किए और बिना रोक-टोक लोग घूमते रहे.

पटना में कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है. इसी के साथ कई इलाके कंटेनमेंट जोन घोषित किए गए हैं. हालांकि इन कंटेनमेंट जोन में लापरवाही भी बढ़ गई है. इलाकों में ना मजिस्ट्रेट ना पुलिस मौजूद है. यही कारण है कि लोग बिना रोक टोक के घूम रहे हैं. इन इलाकों में रहने वाले एक लाख 41 हजार 335 ऐसे लोग हैं, जिन पर कोरोना संक्रमण का अधिक खतरा है. प्रशासन ने कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं हो इसीलिए पटना के 89 कंटेनमेंट जोन को अतिसंवेदनशील माना है.

पटना शहर में 5 इलाकों में कोरोना वायरस का संक्रमण काफी तेजी से फैला है. इनमें दानापुर, कंकड़बाग, राजाबाजार और बुद्धा कॉलोनी का इलाका प्रमुख है. दानापुर के गोला रोड और राजीव नगर कोरोना वायरस की दृष्टि से सबसे संवेदनशील हॉट स्पॉट रहे. इन इलाकों में बैरिकेडिंग तो की गई है लेकिन नियमों का अनुपालन नहीं किया जा रहा है.

पटना: बफर जोन वालों को राहत, कोरोना वायरस के नियमों के साथ खुलेंगी सभी दुकानें

राजा बाजार के कई इलाके कंटेनमेंट जोन में शामिल किए गए हैं राजा बाजार में खाजपुरा सबसे अति संवेदनशील इलाका है. मस्जिद की बगल वाली गली में 7 मरीज मिले थे. उसके बाद सबसे पहले इस इलाके को कंटेनमेंट जोन बनाया गया. बैरिकेडिंग की गई लेकिन स्थानीय लोगों ने इसे हटा दिया. इस इलाके में भी लोगों की चहल-पहल है और वाहन आ-जा रहे हैं. सुबह-शाम इस इलाके में काफी भीड़ होती है.

पटना में कोरोना वायरस का कहर, मंगलवार को 393 नए संक्रमित मामले

डीएम कुमार रवि का कहना है कि जहां भी कंटेनमेंट जोन घोषित किए गए हैं, वहां मजिस्ट्रेट और पुलिस बल की तैनाती की गई है. साथ ही थानों की पुलिस को निर्देश दिया गया कि समय-समय इसे देखें ताकि देखें कि इसका उल्लंघन तो नहीं हो रहा है. इसके अलावा आठ ऐसी टीमें हैं जो छापेमारी कर रही है. इसमें काफी संख्या में वाहन भी जब्त किए गए हैं तथा मास्क नहीं पहने के आरोप में लोगों पर कार्रवाई की गई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें