मजबूरी: होम क्वारंटाइन में कोरोना पॉजिटिव माता-पिता... भूख से बिलख रहे बच्चे

Smart News Team, Last updated: 18/07/2020 09:33 AM IST
  • एक माता-पिता कोरोना की वजह से इस कदर मजबूर है कि वह अपने सामने बच्चों को भूख से तड़पता-बिलखता देख रहा है, मगर कुछ भी नहीं कर पा रहा।
quarantine (File Photo)

कोरोना लोगों को क्या-क्या दिन दिखाएगा इसकी कल्पना मात्र से ही शरीर में सिहरन पैदा हो जाती है। एक माता-पिता कोरोना की वजह से इस कदर मजबूर है कि वह अपने सामने बच्चों को भूख से तड़पता-बिलखता देख रहा है, मगर कुछ भी नहीं कर पा रहा। दरअसल, पटना में एक कमरे में माता-पिता दोनों कोरोना वायरस से ठीक होने के लिए होम क्वारंटाइन हैं और गेट पर बच्चे भूख से बिलख रहे हैं। बच्चों न कोई खाना देने वाला है और न कोई खाना बनाने वाला। मजबूरी का आलम यह है कि अब तो दाई ने भी घर में काम करने से मना कर दिया।

अब तो कोविड-19 से डरो पटनावालों...राजधानी में 8 दिन में दोगुने हो गए कोरोना मरीज

लॉकडाउन की वजह से इस परिवार की रिश्तेदार भी मदद करने में असमर्थता जता रहे हैं। मजबूर माता-पिता बच्चों को किसी तरह मैगी बनाकर खाने को बता रहे हैं। यह हाल है नाला रोड के एक कोरोना पॉजिटिव परिवार का। कोरोना पॉजिटिव दंपति के इन बच्चों को देखने वाला तक कोई नहीं है।

जल्द मिलेगी खुशखबरी? पटना एम्स में 7 लोगों को दी गई कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

कोरोना काल में ऐसी दर्द भरी कई कहानियां हैं जो लोगों की मजबूरी को बयां कर रही हैं। एक अन्य घटना पटना के अनीसाबाद की है, जहां एक अपार्टमेंट में कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने पर सील कर दिया गया है। इस अपार्टमेंट में रहने वाली एक महिला अपने दो बच्चों के साथ फंसी हैं। राजीव नगर में रहने वाली एक महिला बूढ़ी सास के साथ रहती है। वह कोरोना पॉजिटिव हो गई है। ऐसे में सास की देखभाल करने वाला कोई नहीं है। महिला का कहना है कि सास भी बीमार रहती हैं। काम करने वाली छुट्टी पर चली गई है। आस-पड़ोस के लोग दरवाजे पर कुछ रख जाते हैं। वही खाकर सास दिन काट रही है। उम्र अधिक होने से उठने में भी परेशानी होती है।

अन्य खबरें