पटना एम्स बनेगा कोविड-19 डेडिकेटेड अस्पताल, कोरोना से जंग में ऐसी होगी तैयारी…

Smart News Team, Last updated: 02/07/2020 09:24 AM IST
  • बिहार में जारी कोरोना कहर के बीच सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। पटना एम्स को जल्द ही कोविड-19 डेडिकेटेड अस्पताल में बदला जाएगा।
पटना एम्स को जल्द ही कोविड-19 डेडिकेटेड अस्पताल में बदला जाएगा।

पटना। संजय पांडेय

बिहार में जारी कोरोना कहर के बीच सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। पटना एम्स को जल्द ही कोविड-19 डेडिकेटेड अस्पताल में बदला जाएगा। अस्पताल इसकी पूरी तैयारी कर चुका है, जिसकी घोषणा अगले तीन-चार दिनों में हो सकती है। कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल बनने से यहां सिर्फ कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज होगा और अगले आदेश तक फिलहाल अन्य किसी भी बीमारी के मरीजों का इलाज नहीं होगा। अस्पताल में कोरोना मरीजों के लिए अब 50 के बदले 500 बेड की व्यवस्था होगी।

दरअसल, पटना एम्स में कोरोना आइसोलेशन वार्ड में संक्रमित मरीजों के लिए 50 बेड उपलब्ध हैं। एम्स को कोरोना अस्पताल में बदलने के लिए एम्स डायरेक्टर की अध्यक्षता में एम्स के वरीय चिकित्सकों और अधिकारियों की एक बैठक हो चुकी है। बैठक में शामिल एक वरीय चिकित्सक के अनुसार, संस्थान को कोरोना अस्पताल में बदलने का निर्णय ले लिया गया है। जल्द ही यह कोरोना अस्पताल में तब्दील हो जाएगा।

बताया जा रहा है कि बिहार में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए प्रशासन ने एम्स को कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल में तब्दील करने का फैसला लिया है। स्वास्थ्य एक्सर्ट के अनुमान के मुताबिक, कोरोना का अभी पीक आना बाकी है। कुछ दिनों में कोरोना के संक्रमण में और भी तेजी आएगी और इस तरह से जुलाई के अंत तक कोरोना अपने चरम पर हो सकता है। ऐसे में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अधिक बेड की आवश्यकता होगी। यही वजह है कि अधिक से अधिक बेड और चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराने के लिए ऐसी व्यवस्था की जा रही है।

एम्स प्रशासन ने कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल में बदलने के अपने फैसले से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय को अवगत करा दिया है। उम्मीद की जा रही है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से हरी झंडी मिलते ही, इस पर काम शुरू हो जाएगा। कोरोना अस्पताल में तब्दील होने के बाद एम्स में इमरजेंसी मरीज भी भर्ती नहीं लिए जाएंगे। अभी यहां का सामान्य ओपीडी पिछले तीन महीने से पूरी तरह से बंद है। सिर्फ कोविड-19 जांच के लिए यहां एक अलग ओपीडी चल रहा है।

अन्य खबरें