पटना: राज्य के सबसे बड़े अस्पताल PMCH में कोरोना विस्फोट, एक ही दिन 11 पॉजिटिव

Smart News Team, Last updated: 03/07/2020 09:26 AM IST
  • राज्य के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच पर कोरोना का काला साया गहराता जा रहा है। पीएमसीएच के 11 हेल्थ वर्कर्स के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद से तीन विभागों पर ताल लटकने का खतरा बढ़ गया है।
पीएमसीएच के तीन विभाग के हेड समेत 11 स्वास्थ्य कर्मी कोरोना संक्रमित

राज्य के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच पर कोरोना का काला साया गहराता जा रहा है। पीएमसीएच के 11 हेल्थ वर्कर्स के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद से तीन विभागों पर ताल लटकने का खतरा बढ़ गया है। दरअसल, माइक्रोबायोलॉजी और वायरोलॉजी में पहले ही अगले 4 दिनों तक जांच बंद रहने की घोषणा कर दी गई है। अब फिजियोलॉजी विभाग में भी अगले 3 दिनों तक इलाज नहीं होगा, क्योंकि पीएमसीएच के माइक्रोबायोलॉजी, वायरोलॉजी और फिजियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। 

इतना ही नहीं, फिजियोलॉजी का एक और सीनियर डॉक्टर भी गुरुवार को कोरोना की चपेट में आ गया। इसके अलावा माइक्रोबायोलॉजी विभाग के दो टेक्नीशियन, सुपरिटेंडेंट कार्यालय के दो डाटा ऑपरेटर और एक सहायक क्लर्क और दो नर्स कोरोना संक्रमित पाई गई है। इस तरह से पीएमसीएच में एक ही दिन में 11 स्वास्थ्यकर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित हुए है।

पीएमसीएच एक ही दिन में कोरोना वायरस के इस विस्फोट से डॉक्टर, नर्स और हेल्थ वर्कर्स के बीच में हड़कंप मचा हुआ है। सभी कोरोना से खौफजदा हो गए हैं। खौफ का आलम यह है कि सुपरिटेंडेंट कार्यालय को अगले 4 दिनों के लिए डिप्टी सुपरिटेंडेंट कार्यालय में शिफ्ट कर दिया गया है। जिन-जिन विभागो से संक्रमित मिले हैं वहां अगले चार दिनों तक मरीजों का आना-जाना नहीं होगा।

फिलहाल, पीएमसीएच के किसी भी विभाग में जांच की सुविधा नहीं मिलेगी। अधीक्षक डॉक्टर विमल कारक ने कहा कि सोमवार के बाद ही इन विभागों को खोला जाएगा। इस बीच सभी विभागों में सैनिटाइजेशन और डिसइन्फेक्शनाइजेशन का काम किया जायेगा। माइक्रोबायोलॉजी विभाग के बंद होने के कारण सोमवार से पीएमसीएच के डॉक्टरों नर्सों और सहायक चिकित्सा कर्मियों का सैंपल कोरोना जांच के लिए लिया जाएगा।

अन्य खबरें