पटना

कोरोना पर पटना आई सेंट्रल टीम ने जो फीडबैक दिया, वह सभी बिहारवासियों को डरा देगा

Smart News Team, Last updated: 22/07/2020 09:12 AM IST
  • बिहार में कोविड-19 का कहर कैसा है और सरकार इसे काबू पाने के लिए किस कदर काम कर रही है, इसका जायजा जब केंद्रीय टीम ने लिया तो पता चला कि राज्य सरकार इस मोर्चा पर नाकाम साबित हो रही है।
पटना जंक्शन पर यात्रियों की भीड़ बढ़ी तो बाहर टेम्पो, ऑटो और रेहड़ी वालों की संख्या भी सामान्य होती दिख रही है।

बिहार में कोरोना वायरस के खिलाफ जंग कितनी तैयारी और मुस्तैदी से लड़ी जा रही है, इसका मुआयना करने के लिए केंद्र की टीम रविवार को पटना के एनएमसीएच अस्पताल पहुंची थी, मगर इस केंद्रीय टीम ने बिहार में कोरोना वायरस की स्थिति का जायजा लेने के बाद जो फीडबैक दिया है, वह बिहारवासियों के लिए चिंता की बात है। बिहार में कोविड-19 का कहर कैसा है और सरकार इसे काबू पाने के लिए किस कदर काम कर रही है, इसका जायजा जब केंद्रीय टीम ने लिया तो पता चला कि राज्य सरकार इस मोर्चा पर नाकाम साबित हो रही है।

दरभंगा के BJP MLC सुनील सिंह का पटना में हर्ट अटैक से निधन, कोरोना पॉजिटिव भी थे

सेंट्रल टीम ने अस्पताल की कोरोना डेडिकेटेड सेंटर का निरीक्षण किया। साथ ही सेंट्रल इमरजेंसी वार्ड का भी मुआयना किया। केन्द्रीय टीम ने कोरोना मरीजों की इलाज व्यवस्था और उपलब्ध संसाधनों पर असंतुष्टि जताई। केन्द्रीय टीम ने बताया कि बिहार में कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज व्यवस्था और उपलब्ध संसाधनों के बारे में केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारियों से बात करेंगे।

हालांकि, सेंट्रल टीम ने माना है बिहार में अभी कोरोना संक्रमण के कम्युनिटी ट्रांसफर की स्थिति नहीं है। मगर बिहार में जांच के तरीके को बदलकर इसकी संख्या बढ़ानी होगी। संक्रमितों को अलग करने के साथ इलाज की सुविधा मुहैया करानी होगी। तभी संक्रमण की स्थिति में परिवर्तन होगा। केंद्रीय टीम ने बिहार में कोरोना से बचाव के लिए हर प्रकार की सुविधाओं को मुहैया कराने को लेकर आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि मांग के अनुसार मेडिकल उपकरण व जांच मशीनें इत्यादि उपलब्ध कराई जाएंगी।

ऐसे जीतेंगे कोरोना से जंग? रिजल्ट के इंतजार में घंटों NMCH के ICU में पड़ा रहा शव

केंद्रीय टीम के एक सदस्य ने पटना में हेल्थकेयर से जुड़े शख्स से बातचीत के दौरान कहा कि अस्पताल के अंदर ऐसी लापरवाही के कारण संकमण फैलने का खतरा है और अस्पताल को इससे बचाने की जरूरत है। टीम का नेतृत्व केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल कर रहे थे। टीम में एम्स दिल्ली के डॉ. नीरज निश्चल व एनसीडीसी के डॉ. एसके सिंह भी शामिल थे।

CM के मंच को जीप से तोड़ने वाले राजा मानसिंह की हत्या मामले में सजा का ऐलान कल

केंद्रीय टीम का यह फीडबैक इसिलिए भी अहम है क्योंकि बिहार में कोरोना के हालात लगातार भयावह होते जा रहे हैं और लगातार अस्पताल प्रशासन की लापरवाही सामने भी आ रही है। सोमवार को एक खबर आई कि एनएमसीएच यानी नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एनएमसीएच) में कोरोना की जांच रिपोर्ट के इंतजार में एक संदिग्ध मरीज का शव घंटों पड़ा रहा। इस अव्यवस्था को लेकर वहां भर्ती दूसरे मरीजों और उनके अभिभावकों ने आक्रोश जताया। इसको लेकर आईसीयू में भर्ती एक मरीज के परिजन ने वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

अन्य खबरें