कोरोना के नाम पर धड़ल्ले से चल रही साइबर ठगी, ईमेल SMS में आए लिंक से सावधान

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 10:51 AM IST
  • साइबर अपराधी अब कोरोना का खौफ दिखाकर लोगों के अकाउंट खाली कर रहे हैं. ईमेल और एसएमएस के जरिए लिंक भेज फिशिंग के माध्यम से लोगों के बैंक खातो से पैसे उड़ा ले रहे हैं.
कोरोना काल में बेखौफ साइबर अपराधी अब लोगों को कोरोना का डर दिखाकर ही बैंक खातों से रुपये उड़ा रहे हैं.

पटना. कोरोना काल में बेखौफ साइबर अपराधी अब लोगों को कोरोना का डर दिखाकर ही बैंक खातों से रुपये उड़ा रहे हैं. इसके लिए साइबर हैकर फ्री में कोरोना जांच कराने का कह कर फर्जी तरीके से WHO और सरकार की तरफ से कह कर ईमेल भेज रहे हैं. ईमेल में लिंक रह रहा है. मेल में भेजे गए उस लिंक पर क्लिक करते ही कुछ देर के बाद लोगों के बैंक खाते साफ हो जा रहे हैं. इस खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की साइबर सुरक्षा सेल भी बार-बार अलर्ट जारी कर लोगों को चेतावनी दे रही हैं.

बता दें कि इस तरह के जालसाजी में किसी व्यक्ति को मेल कर एक लिंक भेजा जाता है. उस लिंक पर क्लिक करते ही वह यूजर को एक फर्जी वेबसाइट पर ले जाता है. उस वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन चार्ज के नाम पर 10 या 20 रुपये का ट्रांजेक्शन करने को कहा जाता है. इसके बाद फ्रॉड एक क्यूआर कोड यूजर के वाट्सएप नंबर पर भेजता है. जैसे ही यूजर उस कोड को खोलता है यूजर के सारे जरूरी दस्तावेज हैक हो जाता है और फ्रॉड आसानी से अकाउंट से रकम उड़ा लेता है.

पटना: जिला प्रशासन ने रेलवे से मांगा इन 13 ट्रेनों का संचालन

कंकड़बाग में हनुमान नगर के रहने वाले कमलेश कुमार पेशे से निजी प्राइवेट कंपनी में मार्केटिंग मैनेजर हैं. अगस्त महीने में उनके मोबाइल पर एक अनजान लिंक का मैसेज आया. लिकं में WHO की तरफ से बताते हुए हुए मुफ्त में कोरोना जांच की बात कही गयी थी. कमलेश ने वो लिंक खोला तो मोबाइल नंबर दिया था, जिस पर पीड़ित ने कॉल किया. फोन करने के बाद फ्रॉड ने मुफ्त में कोरोना जांच की बात कही और झांसा देते हुए उनके घर पर जांच टीम भेजने का भरोसा दिया. उसने इसके लिए 20 रुपये का ट्रांजेक्शन करने को कहा. कमलेश ने जैसे ही पीएटीएम से ट्रांजेक्शन किया, उनके खाते से 16 हजार गायब हो गये. इसी तरह अनजान लिंक पर अपना नाम व मोबाइल नंबर डालने पर बुद्धा कॉलोनी स्थित एकेनगर निवासी 34 वर्षीय जयपाल के खाते से करीब 52 हजार साफ हो गये़.

बिहार चुनाव : सुशांत सिंह राजपूत मामले पर फडनवीस ने कहा- ये चुनावी मुद्दा नहीं

इस मामले में आइजी रेंज पटना संजय सिंह का कहना है कि मुफ्त में कोरोना जांच व पीएम केयर फंड के नाम पर फर्जी लिंक बनाकर जालसाजी करने का मामला सामने आ रहा है़ इसको देखते हुए पुलिस विभाग ने सभी बैंक, स्वास्थ्य विभाग समेत सभी थानेदारों को अलर्ट रखते हुए लोगों को जागरूक करने को कहा है. ताकि, कोरोना के नाम पर हो रही ठगी से लोग बच सके़.

क्या-क्या बरते सावधानियां-

- स्वास्थ्य विभाग कभी भी कोरोना जांच के लिए ईमेल नहीं करता है, इसलिए इस तरह के किसी भी ईमेल पर व्यक्तिगत जानकारी देने से बचे.

- SMS और ईमेल पर आये लिंक या किसी अज्ञात स्रोत से आये अटैचमेंट खोलने से पहले ध्यान दें. इसमें वायरस का खतरा हो सकता है.

- किसी भी बैंक के नाम से आने वाली फोन कॉल, मैसेज या ईमेल पर भरोसा न करें, अपने खाते की जानकारी किसी से साझा न करें.

- मोबाइल फोन पर सार्वजनिक वाइफाइ नेटवर्क का इस्तेमान ना ही करें तो बेहतर.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें