पटना: आधी रात सड़क पर उतरे डीएम तो पेट्रोलिंग के बजाय चादर तान सोते मिली पुलिस

Smart News Team, Last updated: Fri, 18th Dec 2020, 7:38 AM IST
  • डीएम के औचक निरीक्षण में गांधी मैदान से अशोक राजपथ होते हुए गायघाट तक कहीं पर पुलिस पेट्रोलिंग नहीं देखी. सुल्तानगंज थाने के बाहर तो कोई दिखा ही नहीं. जिस गस्ती वाहन में मल्टी कलर लाइट नहीं थी, उनको भी फटकार लगाई, खुले आसमान के नीचे सो रहे लोगों को कंबल वितरित किया,
पटना: आधी रात सड़क पर उतरे डीएम तो पेट्रोलिंग के बजाय चादर तान सोते मिली पुलिस

पटना: राजधानी में पुलिस चौकसी के दावों की पोल गुरुवार देर रात डीएम कुमार रवि के ऑन द स्पॉट निरीक्षण में खुल गई. ठंड में गश्त करने की बजाय पुलिस चादर ताने सोती रही. जबकि डीएम अलग-अलग जगहों पर गश्ती पुलिस की मुस्तैदी का जायजा लेने के लिए भागते रहे. इस दौरान गांधी मैदान से अशोक राजपथ होते हुए गायघाट तक कहीं पर पुलिस पेट्रोलिंग नहीं देखी. गायघाट से कुछ दूर पुलिस पेट्रोलिंग को देख डीएम ने उनसे पूछताछ की. डीएम कड़ाके की ठंड को देखते हुए गरीबों के बीच कंबल बांटने दल बल के साथ निकले थे. इसी बीच अचानक थानों का निरीक्षण करने लगे. उन्होंने गांधी मैदान के चारों तरफ दल बल के साथ चक्कर लगा लेकिन कहीं पेट्रोलिंग नहीं दिखी.

अफसरों से पूछा कहां कहां है पुलिस पेट्रोलिंग.

अशोक राजपथ की ओर जब डीएम बढ़े तो रात के 11:30 हो रहे थे. पीरबहोर थाने के पास डीएम ने गाड़ी रोकी पेट्रोलिंग नहीं देख उन्होंने पुलिस के वरीय अधिकारियों से पूछताछ की शहर में कहां-कहां पुलिस पेट्रोलिंग है. एक वरीय पुलिस अधिकारी ने बताया कि इनकम टैक्स, हड़ताली मोड़ आदि प्रमुख चौराहों पर पुलिस की पेट्रोलिंग है. फिर उन्होंने कहा मैं सड़क पर हूं और मुझे अशोक राजपथ में कोई पेट्रोलिंग गाड़ी नहीं दिख रही है. फिर क्या था करीब 7 मिनट के अंदर पुलिस पेट्रोलिंग की गाड़ियां डीएम के पास पहुंच गई.

बिहार में NDA से लड़ी LJP, क्या बंगाल चुनाव में BJP से लड़ेगी नीतीश की JDU ?

गाड़ी में मल्टी कलर क्यों नहीं है ?

डीएम ने पेट्रोलिंग कर रहे पुलिसकर्मियों से पूछा कि आपकी गाड़ी में मल्टी कलर लाइट क्यों नहीं है. कैसे पहचान में आएगा कि पुलिस की गाड़ी है. कुछ ही देर में पीरबहोर थाना के थाना प्रभारी भी वहां पहुंच गये. डीएम ने पूछा कहां कहां पुलिस गश्ती है. उन्होंने कहा कि 3 जोड़ी अलग-अलग रुटों में निकली है. इसके बाद डीएम सुलतानगंज थाना पहुंचे थाने के अंदर पुलिस थी. लेकिन बाहर कोई नहीं था. 2 मिनट तक अपनी गाड़ी में बैठकर डीएम थाने की स्थिति का जायजा लेते रहे बाद में गायघाट की ओर निकल गए सुलतानगंज थाना क्षेत्र के बाद वह सीधे गाय घाट चौराहा पहुंचे यहां गाड़ी लगी थी. पुलिस वालों से पूछा कि कितने पुलिसकर्मी यहां रहते हैं तो बताया कि 10 की संख्या में पुलिस बल रहते हैं.

पटना गोलीकांड: मंडई चौराहे के पास फल बेचने वाले युवक को मारी गोली, हुई मौत

महिला ने एक कंबल मांगा था डीएम ने बच्चों को देख पांच दिए.

सिटी की सुनीता देवी रेलवे जंक्शन पर भीख मांग कर अपने बच्चों का जीवन यापन करती हैं. पति कबाड़ी का काम करते हैं इनके घर नहीं है. सुनीता ही नहीं बल्कि पटना रेलवे स्टेशन पर करीब डेढ़ साल से परिवार है. जो भीख मांग कर ही जीवन बसर करते हैं. गुरुवार रात 10:30 बजे डीएम कुमार रवी दल बल के साथ अचानक पटना रेलवे स्टेशन पहुंचे थे. दो गरीबों को कंबल देने के बाद जैसे ही वह आगे बढ़े तो मुख्य सड़क के किनारे एक महिला अपने खुले छोटे-छोटे बच्चों को लेकर खुले आसमान के नीचे सोई हुई थी. इनमें से एक बच्चा मां का दूध पी रहा था 40 लोग सोए थे. जैसे ही और शोरगुल की आवाज बच्चों ने सुनी जाग गए महिला ने अपने बच्चों के लिए एक कंबल मांगा लेकिन डीएम इतने भावुक हो गए कि उन्होंने महिला समेत उनके चार बच्चों के लिए 5 कंबल दिए रेलवे स्टेशन की मुख्य चौराहे पर तो चारों तरफ से गरीब खुले आसमान के नीचे सोए हुए थे यहां सभी को कंबल दिए गए.

बिहार में BJP कैसे JDU से बड़ी पार्टी बनी, 26 दिसंबर से नीतीश का नेशनल मंथन

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें