पटना गांधी मैदान मोदी हुंकार रैली ब्लास्ट केस में फैसला, 1 आरोपी रिहा, 9 दोषी

Srishti Kunj, Last updated: Wed, 27th Oct 2021, 12:47 PM IST
  • पटना के गांधी मैदान में BJP की हुंकार रैली के दौरान सीरियल बम ब्लास्ट हुए थे जिस मामले में दोषियों के खिलाफ बुधवार को फैसला सुनाया गया. 2013 में प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की रैली के दौरान 27 अक्टूबर को ही ब्लास्ट हुए थे. इस केस में कोर्ट ने आरोपियों में से एक को रिहा कर दिया और 9 को दोषी करार दिया.
पटना गांधी मैदान PM मोदी हुंकार रैली सीरियल ब्लास्ट केस में कोर्ट ने फैसला सुना दिया

पटना. 27 अक्टूबर 2013 को पटना के गांधी मैदान में हुए सीरियल ब्लास्ट केस में आज बुधवार को NIA की स्पेशल कोर्ट ने फैसला सुनाया. NIA ही मामले की जांच कर रही थी. एनआईए ने बिहार और झारखंड के कई इलाकों में छापेमारी करके आतंकी संगठन के 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया था. इनमें एक नाबालिग भी शामिल था. कोर्ट ने अपने फैसले में 1 आरोपी को रिहा कर दिया और 9 को दोषी करार दिया है. कोर्ट ने आरोपी फखरुद्दीन को दोषी करार दिया है. हालांकि दोषियों को अभी सजा नहीं सुनाई गई है. 1 नवंबर को सभी 9 दोषियों को सजा सुनाई जाएगी.

8 साल पहले गांधी मैदान में भारतीय जनता पार्टी के तब प्रधानमंत्री उम्मीदवार नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली चल रही थी. उसी समय गांधी मैदान समेत पटना जंक्शन के प्लेटफॉर्म नंबर 10 के सुलभ शौचालय में बम ब्लास्ट हुए. इन सीरियल ब्लास्ट से केवल पटना ही नहीं पूरा देश सहम गया था. सीरियल ब्लास्ट में 6 लोगों ने जान गंवाई थी और 89 लोग घायल हुए थे. 

CM नीतीश की रैली में लगे मुर्दाबाद के नारे, तारापुर में मुख्यमंत्री बोले- जो हल्ला कर रहा है...

एनआईए कोर्ट ने आरोपियों हैदर अली, मुजीबुल्लाह, अंसारी नुमान, अंसारी उमर सिद्दीकी, अजहरुद्दीन कुरैशी, फखरुद्दीन, अहमद हुसैन, इम्तियाज अंसारी, इफ्तेखार आलम और फिरोज असलम के खिलाफ फैसला सुनाया. इन 10 आरोपियों के खिलाफ NIA की तरफ से साल 2014 में ही चार्जशीट दाखिल की गई थी. सभी संदिग्धों को पटना के ही बेउर जेल में रखा गया था. एनआईए की स्पेशल कोर्ट में कड़ी सुरक्षा के साथ इनकी पेशी की गई. मामले में 187 लोगों ने गवाही भी दी. 

लालू बोले जेडीयू का विसर्जन करने आया हूं तो नीतीश ने कहा- वो चाहें तो गोली मरवा सकते हैं

8 साल से इस मामले की सुनवाई चल रही थी जो कुछ दिनों पहले पूरी हुई. कोर्ट ने फैसला सुनाने के लिए ठीक 8 साल बाद 27 अक्टूबर का दिन ही रखा. आदेश के मुताबिक फैसले के वक्त सभी आरोपी कोर्ट में मौजूद रहे. आरोपियों को कोर्ट में लाने और सुनवाई के लिए पटना पुलिस ने कड़ी सुरक्षा के इंतजाम रखे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें