पटना

रंगदारी ना देने का खौफनाक अंजाम, कंपनी के कर्मचारियों पर ग्रेनेड अटैक, 8 अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 20/07/2020 07:52 PM IST
  • पटना में कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों पर फायरिंग की गई और उनपर हैंड ग्रेनेड से हमला किया गया. इस मामले में आठ को पुलिस की विशेष टीम ने गिरफ्तार किया है.
प्रतीकात्मक तस्वीर

 पटना. पटना में रविवार को कंस्ट्रक्शन कंपनी का काम रुकवाकर, कंपनी के कर्मचारियों पर फायरिंग की गई और उनपर हैंड ग्रेनेड से हमला किया गया. इस मामले में आठ अपराधियों को पुलिस की विशेष टीम ने गिरफ्तार कर लिया है. बताया जा रहा है कि सभी गिरफ्तार अपराधी नौबतपुर-बिहटा इलाके के मनोज-माणिक गैंग के सदस्य हैं. जानकारी मिली है कि इन सभी पकड़े गये अपराधियों के पास से गांजा और अन्य नशीले पदार्थ बरामद कर जब्त किये गये हैं.

पुलिस को रविवार को ताज इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड नाम की सड़क निर्माण कंपनी के कार्य स्थल पर हमले की जानकारी मिली, जिसके बाद इस मामले में छानबीन शुरू की गई. शुरूआती जांच में पता चला कि कंस्ट्रक्शन कंपनी से 50 लाख रुपये रंगदारी के रूप में मांगे गए थे. इसलिए बाप- बेटे की इस गैंग के लोगों ने कंपनी का काम रुकवाकर कर्मचारियों के साथ मारपीट की.

कैसे जीतेंगे कोरोना जंग? लॉकडाउन में होटल बंद कराने गई पुलिस पर हमला, 30 पर केस

कर्मचारियों को डराने के लिए उन पर फायरिंग करवायी और हैंड ग्रेनेड से हमला भी किया. इस घटना को गैंग चलाने वाले मनोज के बेटे माणिक के इशारे पर अंजाम दिया गया. बता दें कि कई दिनों से कंपनी से रंगदारी की मांग की जा रही थी. सोमवार को गिरफ्तार अपराधियों से एसएसपी उपेंद्र शर्मा ने नौबतपुर थाने में पहुंचकर पूछताछ की. गैंग चलाने वाले मनोज और माणिक अभी फरार हैं.

पटना: ट्रेन से हुए दुखद कार हादसे के बाद एक्शन में रेलवे, 5 अवैध क्रॉसिंग बंद

पुलिस दोनों की तलाश कर रही है. उन्हें ढूंढने के लिए कई जगहों पर छापेमारी की जा रही है. वहीं शिकायतकर्ता ने बताया कि कंस्ट्रक्शन कंपनी के डायरेक्टर अखिलेश जयसवाल से मणिक ने व्हॉट्सएप कॉल करके रंगदारी की मांग की थी. कई दिनों से रंगदारी की मांग की जा रही थी और उनसे इसमें 50 लाख रुपये देने के लिए कहा जा रहा था. बताया गया कि रंगदारी की मांग के साथ धमकी भी दी गई थी कि मांग पूरी ना करने पर अंजाम भुगतना होगा. पुलिस व्हॉट्सएप कॉल की भी जांच कर रही है.

पुलिस ने बताया कि मनोज-माणिक गैंग ने पुराने गुर्गों को घटना को अंजाम देने का काम सौंपा था. पुलिस की गिरफ्त में प्रकाश नाम का अपराधी इससे पहले भी किसी और कंस्ट्रक्शन कंपनी का काम रुकवाने और फायरिंग करवाने के मामले में जेल जा चुका है. उसने जानकारी दी की इस बार उसने मनोज और मणिक के कहने पर ताज इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड के कर्मचारियों पर फायरिंग की.े

अन्य खबरें