पटना: एक चौथाई पद से चल रहे सरकारी आईटीआई के लिए ढाई हजार पदों पर होगी नियुक्ति

Smart News Team, Last updated: 23/07/2020 12:12 AM IST
  • बिहार सरकार में सरकारी आईटीआई एक चौथाई पदों से चल रहे हैं. अब सरकारी आईटीआई में ढाई हजार पदों पर नियुक्ति की जाएगी. ये युवाओं को और गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण दिलाने के लिए किया जाना है.
एक चौथाई पद से चल रहे सरकारी आईटीआई के लिए ढाई हजार पदों पर होगी नियुक्ति (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बिहार सरकार सरकारी आईटीआई के खाली पदों को भरेगी. ये राज्य के युवाओं को और गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण दिलाने के लिए किया जाना है. एक रिपोर्ट के अनुसार सरकारी आईटीआई एक चौथाई पदों से चल रहा है. यानी की अभी सरकारी आईटीआई में 2500 पद खाली हैं. इन खाली पदों को चरणवार तरीके से भरा जाएगा. 

कोरोना: पटना में बिना मास्क कट रहा चालान, गमछा या दुपट्टा लटकाना काम ना आया

राज्य के युवाओं का कौशल विकास करने की मुख्य जिम्मेदारी श्रम संसाधन विभाग की है. पदों को भरने के लिए श्रम संसाधन विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है. बता दें कि रिपोर्ट विभाग के शीर्ष स्तर पर प्रशिक्षण निदेशालय की समीक्षा के बाद तैयार की गई थी. रिपोर्ट में ये भी कहा गया था कि खाली पदों के कारण कौशल विकास प्रभावित हो रहा है. अगर खाली पदों को भरा जाए तो सरकारी आईटीआई के प्रशिक्षण की गुणवत्ता और बेहतर हो जाएगी. 

बड़ी खबर: पटना हाईकोर्ट में 27 जुलाई से 6 अगस्त तक छुट्टी, नहीं होगा कोई काम

बता दें कि हर साल विभाग के तहत 149 सरकारी आईटीआई में लगभग 25 हजार युवाओं का नामांकन लिया जाता है. ऐसे में सरकारी आईटीआई के लिए 2700 इंस्ट्रक्टर, 535 ग्रुप इंस्ट्रक्टर, 325 प्राचार्य व उप प्राचार्य संवर्ग के पद होते हैं. इनमें से 218 नियमित और 212 कांट्रैक्ट इंस्ट्रक्टर, 261 ग्रुप इंस्ट्रक्टर, 90 प्राचार्य-उप प्राचार्य संवर्ग पदाधिकारी और 230 लिपिक संवर्ग के कर्मी नियुक्त हैं. वहीं एक भी भंडारपाल नहीं है और केवल 2 कम्पाउन्डर नियुक्त हैं. 

पटना: NMCH स्टाफ के साथ कोरोना मरीजों की मारपीट, डॉक्टरों ने किया काम ठप

सबसे अधिक पद इंस्ट्रक्टर के खाली हैं. विभाग ने तय किया है कि इस बार बहाली की प्रक्रिया पूरे तरीके से तैयारी के साथ शुरू किया जाए ताकि यह दोबारा बीच में ना रह जाए. अधिकारियों के अनुसार इस बार कोशिश है कि आईटीआई के सभी रिक्त पदों पर स्थायी नियुक्ति की जाए ताकि युवाओं को और गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण दिया जा सके.

अन्य खबरें