कोरोना को होम आइसोलेशन में ऐसे दें मात, पटना स्वास्थ्य विभाग ने दिए निर्देश

Smart News Team, Last updated: 25/07/2020 09:51 PM IST
  • पटना जिला स्वास्थ्य समिति ने होम आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना संक्रमितों को किट बनाने के निर्देश दिए हैं. इस किट में क्या होगा और कैसे इस्तेमाल करना है उसके भी निर्देश हैं. 
कोरोना को होम आइसोलेशन में ऐसे दें मात, पटना स्वास्थ्य विभाग ने दिए निर्देश

पटना जिला स्वास्थ्य समिति ने होम आइसोलेशन में रहने वाले कोरोना संक्रमितों को किट बनाने के निर्देश दिए हैं. इस किट में क्या होगा और कैसे इस्तेमाल करना है उसके भी निर्देश हैं. दरअसल पटना में ज्यादातर कोरोना संक्रमित केस बिना लक्षण वाले हैं. ऐसे लोगों को होम आइसोलेशन में भेजा जा रहा है. इसके लिए निर्देश जारी किए गए हैं कि होम आइसोलेशन में कैसे रहना है.

पटना के बिजली कर्मी करवा सकेंगे निजी लैब में कोरोना जांच, कंपनी उठाएगी खर्च

जानकारी के मुताबिक एक किट बनानी है. किट में पल्स आक्सीमीटर, थर्मामीटर, बताई गईं दवाइयां, ग्लव्स, मास्क होना चाहिए. इस किट में पांच दवाएं होंगी. इसमें पैरासिटामोल होगी जो बुखार आने पर एक गोली खानी है. ये 24 घंटे में केवल 3 बार ही खाई जा सकती है. दूसरी होगी एजिथरोमाइसिन जो 24 घंटे में एक गोली खानी है. वहीं 10 दिन तक एक विटामिन सी की गोली और एक मल्टीविटामिन की गोली खानी है और रोज रात में एक गोली लिवोसिटराजिन खानी है.

खौफनाक: पटना में शव यात्रा में शामिल 16 लोग निकले कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप

साथ ही कहा गया है कि किसी भी प्रकार के कोरोना का लक्षण आने पर प्रति 4 घंटे पर बुखार नापें और पल्स ऑक्सीमीटर से ऑक्सीजन सैचूरेशन (एसपीओ2) की नाप करें. यदि एसपीओ2 85 से कम हो तो मरीज को तुरंत 104 पर या कंट्रोल रूम के 0612-2239964 पर कॉल करना होगा.

पटना जाकिर हुसैन के संस्थापक प्रोफेसर उत्तम सिंह का निधन, कोरोना से मौत की आशंका

होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के लिए अलग वॉशरूम और अलग कमरा होना जरूरी है. साथ ही मरीज की देखरेख के लिए घर के किसी एक ही सदस्य को नियुक्त किया जाए. मरीज को त्रिस्तरीय मास्क पहनना होगा और आठ घंटे के प्रयोग के बाद या गीला या गंदा होने पर बदलना होगा.

अन्य खबरें