पटना हाईकोर्ट का अनोखा फैसला, वंश बढ़ाने को कैदी को मिली 15 दिन की पैरोल

Smart News Team, Last updated: Thu, 22nd Apr 2021, 10:57 AM IST
  • पटना हाईकोर्ट ने उम्रकैद की सजा काट रहे युवक को वंश वृद्धि के लिए जेल से 15 दिन की पैरोल पर छुट्टी दी है. वही इसके लिए युवक की पत्नी ने पटना उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी.
पटना हाईकोर्ट का अनोखा फैसला, वंश बढ़ाने को कैदी को मिली 15 दिन की पैरोल

पटना. क्या अपने ऐसा कुछ सुना है कि एक जेल के कैदी को वंशवृद्धि के लिए पैरोल पर छोड़ दिया गया हो. जी हां ऐसा हुआ है और इस फैसले को पटना हाईकोर्ट ने सुनाया है. वही यह फैसला एक तरह से फिल्मी लग रहा है. वही ऐसा कुछ मिथुन चक्रवर्ती और जयाप्रदा अभिनीत बॉलीवुड फिल्म मुद्दत में देखने को मिला था. जिसमे मिथुन को बचाने के लिए वकील रही जयाप्रदा ने वंशवृद्धि के लिए कुछ दिनों के लिए उन्हें जेल से रिहा करा लेती है. वही ऐसा ही कुछ पटना उच्च न्यायालय में भी देखने को मिला. 

जानकारी के अनुसार नालंदा के रहुई थाना क्षेत्र के निवासी विक्की आनंद हत्या के आरोप में साल 2012 से बिहारशरीफ जेल में बंद है. वही उसे छुड़ाने के लिए उसकी पत्नी ने कोर्ट के सामने वंशवृद्धि के लिए पैरोल देने की याचिका दायर की थी. जिसके बाद कोर्ट ने उसकी दलील को सही ठहराते हुए युवक को 15 दिन के पैरोल पर जेल से बाहर आने की अनुमति दी है. वही जानकरों की माने तो हाईकोर्ट का इस तरह यह फैसला देना पहली बार बताया जा रहा है.

नीतीश सरकार प्रवासी मजदूरों को बनाएगी बिजनेसमैन, 10 लाख का देगी लोन

इस मामले को देख रहे वकील गणेश शर्मा ने बताया कि युवक हत्या के आरोप में उम्रकैद की सजा काट रहा है. वही उसके जेल जाने के बाद से ही उसकी पत्नी को कोई सन्तान नहीं थी. जिसको लेकर पत्नी ने कोर्ट में वंशवृद्धि को लेकर याचिका दायर की यदि उसका पति उम्रभर जेल में रहेगा तो वह सन्तानहीन ही रह जाएगी. पत्नी की दलील को सही मानते हुए हाईकोर्ट ने युवक को 15 दिन की पैरोल दी है.

कोरोना काल में होगा बिहार पंचायत चुनाव? 15 दिन बाद फैसला लेगा निर्वाचन आयोग

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें