पटना हाईकोर्ट के आदेश से BPSC की 1284 अस्सिटेंट इंजीनियरों की बहाली का रास्ता साफ

Smart News Team, Last updated: Tue, 5th Jan 2021, 8:34 PM IST
  • पटना हाई कोर्ट ने मंगलवार को बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की अपील मंजूर करते हुए एकलपीठ के फैसले को निरस्त किया. पटना हाईकोर्ट के इस फैसले 1284 अस्सिटेंट इंजीनियरों की बहाली का रास्ता साफ हो गया है.
पटना हाईकोर्ट ने बीपीएससी की अपील मंजूर करते हुए एकलपीठ के आदेश को निरस्त किया.

पटना. पटना हाईकोर्ट के फैसले से 1284 अस्सिटेंट इंजीनियरों की बहाली का रास्ता साफ हो गया है. पटना हाई कोर्ट ने बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी की अपील को मंजूर करते हुए एकलपीठ के फैसले को निरस्त कर दिया है. पटना हाइकोर्ट ने इस मामले की सुनवाई पूरी होने के बाद फैसला अपने पास सुरक्षित रख लिया था. मंगलवार को पटना हाईकोर्ट ने 82 पन्ने का अपना फैसला सुनाया.

बीपीएससी की ओर से दायर अपील पर हाईकोर्ट के जस्टिस शिवाजी पांडेय और न्यायमूर्ति पार्थ सारथी की खंडपीठ ने फैसला सुनाया. खंडपीठ ने अपने आदेश में कहा कि असिस्टेंट इंजीनियर की बहाली के लिए पीटी परीक्षा के माॅडल अंसर और रिजल्ट को फिर से मूल्यांकन के लिए नए एक्सपर्ट कमिटी को बैठाने की जरूरत नहीं है. कोर्ट ने कहा कि सभी अपने विषय के जानकार हैं, उनकी रिपोर्ट में कोर्ट हस्तेक्षप नहीं कर सकता. 

खुशखबरी: अब पटना से भागलपुर और किशनगढ़ का सफर होगा आसान, परिवहन को मिली 8 नई बसें

आपको बता दें कि इससे पहले याचिकाओं पर न्यायमूर्ति आशुतोष कुमार की एकलपीठ ने 26 मार्च 2019 को सुनवाई की थी. जिसमें दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने बीपीएससी को चार प्रश्नों के माॅडल अंसर की पर उठाई गई आपत्ति पर फिर से मूल्यांकन करने के लिए एक्सपर्ट कमिटी का गठन करने का आदेश और 10 सप्ताह के भीतर फिर नया रिजल्ट जारी करने का आदेश दिया था.

बिहार में ITC समेत इन तीन कंपनियों की फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगाने को जमीन आवंटित

बीपीएससी ने 1284 अस्सिटेंट इंजीनियरों के लिए विज्ञापन दिया था. जिसके बाद 15 सितंबर 2018 को 17,865 अभ्यर्थियों ने परीक्षा दी थी. आयोग की आपत्ति की मांग पर 1267 आपत्ति जताई गईं. जिसके बाद एक्सपर्ट कमेटी का गठन किया गया और रिजल्ट घोषित हुआ. इसके बाद पांच गलत प्रश्नों की बात कह कर हाई कोर्ट में पांच रिट याचिका दाखिल की गई. जिसके बाद एकलपीठ ने नई कमेटी का आदेश दिया था. जिसको पटना हाईकोर्ट ने निरस्त कर दिया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें