कोरोना पर पटना हाईकोर्ट का आदेश, मरीज को समय पर इलाज नहीं देना मौलिक अधिकार का उल्लंघन

Smart News Team, Last updated: Sun, 16th May 2021, 8:03 AM IST
  • पटना हाईकोर्ट ने इलाज और जरूरी दवाएं नहीं मिलने को लेकर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए अस्पताल में मरीज का समय पर इलाज नहीं करना मौलिक अधिकार का उल्लंघन मानने का आदेश दिया है. साथ पटना उच्च न्यायलय ने पुलिस को द्वारा कालाबाजारी में पकड़ी गई ऑक्सीजन सिलेंडर को जल्द रिलीज करने का आदेश दिया है.
कोरोना पर पटना हाईकोर्ट का आदेश मरीज को समय पर इलाज नहीं देना मौलिक अधिकार का उल्लंघन

पटना. बिहार के पटना हाईकोर्ट ने शनिवार को कोरोना वायरस पर एक अहम फैसला सुनाया. जिसमे पटना उच्च न्यायालय ने कहा कि बिहार में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सख्त कदम उठाने की जरूरत है. वही इसी दौरान अदालत ने जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि अगर प्राइवेट अस्पताल किसी जरुरतमंद कोरोना मरीज का समय पर उपचार नहीं कर पाते है तो उसे मौलिक अधिकार का उल्लंघन माना जाए. वही इस फैसले को उच्च न्यायलय की चीफ जस्टिस संजय करोल की खण्डपीठ ने सुनाया है.

पटना हाईकोर्ट में इलाज और जरूरी दवाएं नहीं मिलने को लेकर जनहित याचिका पर यह फैसला सुनाया गया. जिसमे पटना हाईकोर्ट ने मरीज को समय पर इलाज नहीं दे पाने को मौलिक अधिकार के उल्लंघन को माना है. वही इसकी सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने कहा कि जरूरतमंद को समय पर इलाज नहीं मिल पाना उसके मौलिक अधिकार का हिस्सा है. जिसमे लापरवाही करना मौलिक अधिकार में उल्लंघन माना जाएगा.

मुजफ्फरपुर में कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लेने आए बुजुर्गों का हंगामा

इसके साथ ही पटना हाईकोर्ट ने कहा कि राज्य के सभी सरकरी और प्राइवेट अस्पताल के डॉक्टर और कर्मचारियों को अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिए और मरीज कि सेवा करनी चाहिए. जिसमे राज्य के प्राइवेट अस्पताल भी अपने कर्तव्य का पालन करते हुए मरीजों की सेवा करें और मौलिक अधिकार का पालन करें.

कोरोना से मरने वालों के कागज गड़बड़, डेथ सर्टिफिकेट पर नहीं लिखा कोविड से मौत

वही इस दौरान पटना हाईकोर्ट ने अभी तक पुलिस द्वारा कालाबाजारी में जब्त किए गए दवाइयों और ऑक्सीजन सिलेंडर को जल्द से जल्द रिलीज करने का आदेश दिया है. जिससे इन सिलेंडरों को अस्पतालों को मुहैया कराके लोगों की जान बचाई जा सके. इतना ही नहीं हाईकोर्ट ने आदेश दिया है कि सभी दवाइयों और सिलेंडरों को छोड़ने से पहले सभी कानूनी कार्रवाइयों को पूरा कर लिया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें