पटना हाई कोर्ट ने बिहार में जुवेनाइल क्राइम रोकने के लिए दिए सख्त निर्देश

Smart News Team, Last updated: 09/04/2021 09:45 AM IST
  • पटना हाईकोर्ट ने बिहार में बच्चों और नाबालिग लड़कियों के खिलाफ बढ़ रहे अपराध को कम करने के लिए राज्य स्तर पर स्टेट चाइल्ड प्रोटेक्शन और हर जिला स्तर पर डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन सोसाइटी सुचारू रूप से चालू करने का आदेश दिया है.
पटना हाईकोर्ट.

पटना हाईकोर्ट ने छोटे बच्चों और नाबालिग लड़कियों के खिलाफ बढ़ रहे अपराधिक मामले को रोकने के लिए एक निर्देश दिया है. पटना हाईकोर्ट ने बिहार के डीजीपी को निर्देश दिया है कि प्रदेश में अनुसंधान कर रहे पदाधिकारियों को जुवेनाइल कानून बाल संरक्षण कानून और पोक्सो एक्ट की विशेष ट्रेनिंग दिया जाए. विशेषकर उन अधिकारियों की जो किसी लड़की और बच्चे से पीड़ित मामले में जांच कर रहा हो.

हाईकोर्ट ने बिहार की जनता को बच्चों और लड़कियों पर बढ़ते अपराध पर जागरूक बनाने के लिए इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया के माध्यम से लोगों के बीच जानकारी देने का निर्देश दिया है. पटना हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को हर राज्य स्तर पर स्टेट चाइल्ड प्रोटेक्शन और हर जिला स्तर पर डिस्ट्रिक्ट चाइल्ड प्रोटेक्शन सोसाइटी बनाने का आदेश दिया.

पड़ोस की महिलाओं ने किशोरी को मौसी के घर ले जाने का दिया लालच, पटना लाकर बेचा

पटना हाईकोर्ट ने एक मामले को ध्यान रखते हुए. यह कड़े निर्देश दिये है. पटना हाईकोर्ट इस बात को लेकर हैरान है कि कैसे एक अपरहण से बरामदगी की गई नाबालिग लड़की को पुलिस तीन दिन तक थाने में कैसे रख सकती है. पटना हाई कोर्ट इस मामले को बहुत भयानक बताया. आगे से ऐसी घटना ना हो उसके लिए राज्य सरकार को जरूरी निर्देश दिए गए हैं. पटना हाईकोर्ट में 25 पेज के अपने फैसले में बिहार ज्यूडिशियल एकेडमी के निर्देशक को भी कड़े निर्देश दिए हैं. कि वह राज्य के सभी न्यायिक अफसर को उन सभी बातों का प्रशिक्षण दें. जिनमें नाबालिक बच्चे और लड़कियों से संबंधित मामलों की जांच और कानूनी कार्रवाई कैसे की जाती है. अधिकारियों को इस समय चल रहे जुवेनाइल केस में ट्रेनिंग दे. ताकि छोटे बच्चों और लड़कियों से संबंधित संरक्षण कानून को करीब से परख सके और अधिक से अधिक न्याय दिला सके.

बिहार में कब होंगे पंचायत चुनाव, जानें क्या बोले पंचायती राज मंत्री

तेजस्वी पर JDU का पलटवार, पूछा- RJD बताए 118 नरसंहारों में कितनों को सजा दी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें